shank

शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने बीजेपी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह पर जमकर निशाना साधाते हुए कहा कि दलितों के प्रति भाजपा का प्रेम झूठा हैं. उन्होने आगे कहा कि दलित परिवारों के साथ नेताओं का भोजन करना विशुद्ध रूप से राजनैतिक कृत्य है.

शंकराचार्य ने कहा कि बिना पूर्व सूचना के वो क्यों नहीं उनके साथ भोजन करते हैं।उन्होंने कहा कि राजनैतिक फायदे के लिए दलितों के साथ उज्जैन में क्षिप्रा नदी में स्नान करने की एक नयी परंपरा स्थापित की गई. नदियों, मंदिरों और धार्मिक स्थलों पर जाति, धर्म या वर्ण के आधार पर कोई भेदभाव नहीं है.

और पढ़े -   अब गाय के गोबर और मूत्र पर शोध करवाएगी मोदी सरकार, हर्षवर्धन की अध्यक्षता में हुआ कमिटी का गठन

शंकराचार्य ने दादरी कांड पर भी टिपण्णी करते हुवे कहा कि  ‘जब कोई ब्राह्मण मरता है, तो सरकार को सहिष्णुता नहीं दिखती। लेकिन जब कोई अल्पसंख्यक मरता है तो चिल्लाने लगते हैं।’ उन्होंने कहा कि सवाल यह है कि सरकार अपनी जिम्मेदारी क्यों नहीं पूरी करती। जब गौहत्या पर प्रतिबंध है, तो फिर कोई एेसा क्यों करता है।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE