रामगढ | झारखण्ड में तथाकथित गौरक्षको द्वारा की गयी एक शख्स की हत्या के आरोप में पुलिस ने दो और लोगो को गिरफ्तार किया है. इनमे से एक शख्स बीजेपी का स्थानीय नेता बताया जा रहा है. इस मामले में मृतक की पत्नी ने 12 लोगो के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी जिसमे से तीन लोगो की गिरफ़्तारी हो चुकी है. बाकी 9 अभी भी फरार चल रहे है.

मिली जानकारी के अनुसार शनिवार को पुलिस ने अलीमुद्दीन की हत्या के आरोप में रामगढ के बीजेपी दफ्तर से आरोपी नित्यानंद को गिरफ्तार किया. बताया यह भी जा रहा है की पुलिस नित्यानंद को दफ्तर से घसीटकर बाहर लेकर आई. नित्यानंद रामगढ की बीजेपी यूनिट का मीडिया प्रभारी भी है. सूचना के अनुसार पुलिस को अलीमुद्दीन की हत्या के समय की सीसीटीवी फुटेज मिली थी जिसमे नित्यानंद , अलीमुद्दीन को वैन से निकालते हुए दिख रहा है.

और पढ़े -   सानिया ने दी स्वतंत्रता दिवस की बधाई, भड़के पाकिस्तानी फेंस

बताया यह भी जा रहा है की नित्यानंद और अलीमुद्दीन की काफी दिनों से रंजिश चल रही थी. इसलिए नित्यानंद ने गौरक्षा के नाम पर अलीमुद्दीन की हत्या की योजना बनायीं. इसलिए मृतक की पत्नी ने 12 लोगो के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई थी. फिलहाल झारखण्ड में इस तरह की घटनाए काफी बढ़ रही है जिसके बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सभी अधिकारियो को आदेश दिया है की आगे बीफ की कोई भी घटना सामने आने पर उस इलाके के पुलिस स्टेशन के एसएचओ को सस्पेंड का दिया जाएगा.

और पढ़े -   मीडिया के सामने सीएम योगी की आँखों में आए आंसू

इसके अलावा रघुवर दास ने अलीमुद्दीन के परिवार को दो लाख रूपए मुआवजा देने का भी एलान किया. हालाँकि पीड़ित परिवार ने मुआवजे की जगह कार्यवाही की मांग की है. बताते चले की 29 जून को गौमांस ले जाने के शक में अलीमुद्दीन की भीड़ ने पीट पीटकर हत्या कर दी थी.  इस दौरान खूब हंगामा किया गया, गाड़िया जलाई गयी. यही नही इस मामले को सम्प्रदायिक रंग भी दिया गया. बाद में स्थिति को नियंत्रण करने के लिए पुलिस को इलाके में धारा 144 लगानी पड़ी.

और पढ़े -   मुस्लिमों को अपनी देशभक्ति साबित करने की जरूरत नहीं: डॉ जफरुल इस्लाम

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE