कोलकाता | एक फेसबुक पोस्ट के बाद बंगाल के 24 नोर्थ परगना में फैली हिंसा अब कुछ नियंत्रित हुई है लेकिन तनाव की स्थिति अभी भी बनी हुई है. किसी भी अनहोनी से निपटने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल को इलाके में तैनात किया गया है. हालाँकि अभी भी बीजेपी अपने राजनितिक फायदे के लिए इस इलाके को दोबारा सुलगाने का पूरा प्रयास कर रही है. इसलिए लिए फर्जी तस्वीरो और खबरों का सहारा लिया जा रहा है.

और पढ़े -   कांग्रेस का आरोप, अडानी समूह ने किया 50 हजार करोड़ रूपए का घोटाला, जनता से वसूला जा रहा अडानी टैक्स

कई बीजेपी नेता सोशल मीडिया पर फर्जी तस्वीरो के सहारे इस मुद्दे को साम्प्रदायिक रंग देने की कोशिश में लगे हुए है. पहले हरियाणा की बीजेपी नेता विजेता मालिक , इसके बाद बीजेपी प्रवक्ता नुपुर शर्मा और अब बीजेपी आईटी सेल के सचिव तरूण सेनगुप्ता. सभी नेताओं ने फर्जी खबरों का तस्वीरो को बंगाल की तस्वीर बताकर सोशल मीडिया पर शेयर किया जिससे लोगो की भावनाओ को भड़काया जाए.

इसी बीच बंगाल सीआईडी ने मंगलवार को ट्वीट कर खबर दी है की बंगाल के बीजेपी आईटी सेल सचिव तरुण सेनगुप्ता को को गिरफ्तार किया गया है. उन पर फर्जी न्यूज़ शेयर कर बंगाल में संप्रदायिक हिंसा को बढ़ावा देने का आरोप है. उनको बंगाल के आसनसोल के बीजेपी आईटी सेल से गिरफ्तार किया गया है. तरुण के अलावा नुपुर शर्मा के खिलाफ भी बंगाल पुलिस ने मामला दर्ज किया है.

और पढ़े -   दलाल बन गए बेरोजगार, वे ही कर रहे हल्ला और कह रहे रोजगार नहीं है: पीएम मोदी

दिल्ली विधानसभा चुनावो में केजरीवाल के खिलाफ चुनाव लड़ चुकी नुपुर शर्मा के खिलाफ दो मामले दर्ज किये गए है. खास बात यह है की दोनों ही मामले गैरजमानती धाराओ में दर्ज किये गए है. बीजेपी प्रवक्ता नुपुर शर्मा पर आरोप है की उन्होंने गुजरात दंगो की एक तस्वीर को बंगाल की तस्वीर बताकर लोगो की साम्प्रदायिक भावनाए भड़काने का काम किया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE