मुंबई | गुजरात दंगो के दौरान बिलकिस बानो के साथ हुए रेप और उसके परिवार के सदस्यों की हत्या के मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट ने सभी आरोपियों की सजा को बरकरार रखा है. इस केस में 11 आरोपियों को स्पेशल ट्रायल कोर्ट ने उम्र कैद की सजा सुनाई थी. हालाँकि सीबीआई ने उम्र कैद की सजा को फांसी में तब्दील करने की मांग की थी. लेकिन कोर्ट ने सीबीआई की इस मांग को ख़ारिज कर दिया.

इसके अलावा कोर्ट ने उन 7 लोगो को भी बरी करने से इनकार कर दिया जिन पर केस से जुड़े सबूत प्रभावित करने का आरोप था. इनमे डॉक्टर्स और पुलिस वाले शामिल है. इस मामले में 7 लोग पहले ही दोषमुक्त हो चुके है. इसलिए सीबीआई ने अदालत में इनके खिलाफ भी याचिका डाली थी. जिसको कोर्ट ने मंजूर कर लिया. बताते चले की 2002 में गुजरात दंगो के दौरान दंगई भीड़ से बचने के लिए बिलकिस बानो (19 वर्षीय) अपने परिवार के साथ एक ट्रक में जा रही थी.

और पढ़े -   बीजेपी विधायक की पैरवी पर सुलगा अलीगढ, पुलिस पर किया गया पथराव, मुस्लिम भाइयो के हत्यारोपी का किया था बचाव

उस समय ट्रक में बिलकिस बानो के परिवार के 17 सदस्य मौजूद थे जिसमें उसकी एक 2 साल की बच्ची भी शामिल थी. अचानक से उनके ट्रक पर एक भीड़ हमला करती है और बिलकिस बानो के परिवार के 14 लोगो को मौत के घाट उतार देती है. मरने वालो में दो साल की बच्ची भी शामिल थी. यही नही दंगई भीड़ में से कुछ लोग, बिलकिस बानो के साथ बलात्कार भी करते है. जबकि उस समय वह पांच महीने की गर्भवती थी.

और पढ़े -   15 अगस्त पर यूपी के 8 हजार मदरसों की होगी वीडियोग्राफी , मुस्लिमो ने जताया एतराज

इस मामले में 21 जनवरी 2008 को स्पेशल ट्रायल कोर्ट ने 11 लोगो को उम्र कैद की सजा सुनाई थी. जबकि 7 लोगो को सबूत प्रभावित करने के मामले में दोषी पाया गया. उम्र कैद की सजा पाने वालो में जसवंत नाई, गोविंद नाई, सैलेश भट्ट, राधेश्याम भगवान दास शाह, बिपिन चंद्रा जोशी, केसरभाई वोहानिया, प्रदीप मोर्धिया, बाकाभाई वोहानिया, राजूभाई सोनी, मितेश भट्ट औप रमेश चंदन शामिल थे. इनमे से सीबीआई ने जसवंत नाई, गोविन्द नाई और एक अन्य की सजा को उम्र कैद से बदलकर फांसी में तब्दील करने की अपील की थी.

और पढ़े -   रोहित वेमुला नहीं थे दलित, आत्महत्या की वजह कॉलेज प्रशासन नहीं: जांच रिपोर्ट

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE