भारत के बाद अब बांग्लादेश में भी ज़ाकिर नाईक के पीस टीवी के प्रसारण पर रोक नलगा दी गयी दी गयी हैं. बांग्लादेश की राजधानी ढाका के कैफे में बंधक संकट के बाद यह मामला रौशनी में आया.

इस हमले में शामिल पांच आतंकियों में से दो आतंकी जिन्होंने ज़ाकिर नाईक के बयानों से प्रेरित होकर इस हमले को इस घटना को अंजाम दिया और 22 लोगो की हत्या कर डाली.

और पढ़े -   अंतराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव का मामला उठाना भारत की सबसे बड़ी गलती - काटजू

जिसके बाद भारत के मुंबई शहर में रहने वाले ज़ाकिर नाईक के भाषणों की जांच के आदेश किया गया, जिसके बाद देश की सरकार ने ज़ाकिर नाईक के चैनल पीस टीवी के प्रसारण पर रोक लगा दी थी. जिसके बाद बांग्लादेश की शेख हसीना सरकार ने भी ज़ाकिर नाईक के बयानों की जांच के आदेश जारी किये थे.

महाराष्ट्र प्रान्त के शहर मुंबई में राज्य सरकार ने ज़ाकिर नाईक के भाषणों की जांच का आदेश दिया है, और साथ ही भारत का गृह मंत्रालय इन आरोपों की जांच करेगा कि इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) को मिले विदेशी चंदे का इस्तेमाल राजनीतिक गतिविधियों के लिए किया गया.

और पढ़े -   केंद्र सरकार ने नई हज नीति को लेकर मांगे सुझाव, ईमेल के जरिए भेजे जाने की आखिरी तारीख 24 मई

आईआरएफ को मिलने वाले धन का उपयोग लोगों को इस्लाम के प्रति और युवकों को आतंक की आकर्षित करने के लिए किया गया. ये सारी गतिविधियां FCRA के प्रावधानों के विपरीत है.

इस कानून का उल्लंघन करने पर दंडात्मक कार्रवाई का प्रावधान है. सूचना अनुसार इस बात की जानकारी भी प्राप्त हुई हैं कि गृह मंत्रालय आईआरएफ के विदेशी चंदे के स्रोत की भी जांच करेगा.

और पढ़े -   सुप्रीम कोर्ट का फैसला निलंबित कराने के लिए जस्टिस कर्णन ने लगाई राष्ट्रपति से गुहार

Web-Title: Bangladesh banned telecast of Peace Tv

Key-Words: Bangladesh, Zakir Naik, Peace TV, Ban


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE