hashim-ansari-challenge

बाबरी मस्जिद केस में मुस्लिम समुदाय की ओर से प्रमुख पक्षकार हाशिम अंसारी का 96 साल की उम्र में निधन हो गया हैं.

उनके बेटे इक़बाल अंसारी ने पत्रकार समीरात्मज मिश्र को बताया कि बुधवार सुबह वो नमाज़ के लिए नहीं उठे थे, तो परिवारवालों ने पाया की उनकी मृत्यु हो चुकी है. वह छाती में दर्द और सांस में दिक्कत को लेकर परेशान चल रहे थे. अंसारी बाबरी मस्जिद के सबसे पुराने पैरोकारों में से थे। वह 1959 से बाबरी मस्जिद का केस लड़ रहे थे.

साठ साल से ज़्यादा समय तक बाबरी मस्जिद की क़ानूनी लड़ाई लड़ने वाले हाशिम अंसारी के स्थानीय हिंदू साधु-संतों से रिश्ते कभी ख़राब नहीं हुए.

वर्ष 2010 में बीबीसी से बातचीत में हाशिम अंसारी ने कहा था, “मैं सन 1949 से मुक़दमे की पैरवी कर रहा हूँ, लेकिन आज तक किसी हिंदू ने हमको एक लफ़्ज़ ग़लत नहीं कहा. हमारा उनसे भाईचारा है. वो हमको दावत देते हैं. मै उनके यहाँ सपरिवार दावत खाने जाता हूँ.”

विवादित स्थल के दूसरे प्रमुख दावेदारों में निर्मोही अखाड़ा के राम केवल दास और दिगंबर अखाड़ा के राम चंद्र परमहंस से हाशिम की अंत तक गहरी दोस्ती रही. परमहंस और हाशिम तो अक्सर एक ही रिक्शे या कार में बैठकर मुक़दमे की पैरवी के लिए अदालत जाते थे और साथ ही चाय-नाश्ता करते थे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें