The Vice President of India Mohammad Hamid Ansari

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने प्रेस और मीडिया पर होने वाले हमले को देश के नागरिक अधिकारों के साथ खिलवाड़ करार देते हुए कहा कि लोकतंत्र व समाज को स्वतंत्र प्रेस की जरूरत होती है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक उन्होंने कहा कि जब मीडिया को किसी ‘अन्यायपूर्ण प्रतिबंध’ और ‘किसी हमले की धमकी’ का सामना करना पड़ता है तो मीडिया में आत्म नियंत्रण की स्थिति और भी खराब हो सकती है। उन्होंने कहा, एक संवैधानिक व्यवस्था के तहत ही मीडिया में सीमित हस्तेक्षेप किया जा सकता है, लेकिन वह भी देश के लोगों के हित में होना चाहिए।

और पढ़े -   सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान बजने के दौरान नही खड़े हुए तीन कश्मीरी छात्र , मामला दर्ज

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ नेशनल हेराल्ड के स्मारक संस्करण के विमोचन के दौरान अपने भाषण में अंसारी ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि नेशनल हेराल्ड आजाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा तय उच्च मानकों पर खरा उतरेगा। समाचार पत्र की नींव नेहरू ने ही रखी थी।

उन्होंने कहा कि नेशनल हेराल्ड को सन् 1938 में लखनऊ से लॉन्च किया गया था और जल्द ही यह स्वतंत्रता आंदोलन की आवाज बन गया। उपराष्ट्रपति ने कहा, “भारत में स्वतंत्रता संग्राम का इतिहास भारतीय पत्रकारों से गहराई से जुड़ा है, जो न केवल समाचार प्रदाता थे, बल्कि सामाजिक कार्यकर्ता तथा स्वतंत्रता सेनानी भी थे। वे देश को न केवल विदेशी दासता से मुक्त कराना चाहते थे, बल्कि समााजिक बुराई, जातिवाद, संप्रदायवाद तथा भेदभाव से भी।”

और पढ़े -   भारत के 27 हाजियो की सऊदी अरब में हुई मौत - हज कमेटी आफ इंडिया

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE