अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के अल्पसंख्यक दर्जा के मामले में मोदी सरकार के ‘यू-टर्न’ के बाद एएमयू का यह मामला अब लगातार बड़ा होता जा रहा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भी एएमयू के अल्पसंख्यक दर्जा के मामले में दखल देने की बात कही है.

Delegation for AMU

अरविन्द केजरीवाल ने कहा है कि -‘एएमयू के अल्पसंख्यक किरदार की बहाली के लिए हर मुमकिन कोशिश करूंगा. ज़रूरत पड़ी तो अलीगढ़ भी जाउंगा.’

दिल्ली के सीएम का इस मुद्दे पर बात रखने का सीधा सा मतलब यह है कि केन्द्र और दिल्ली सरकार के बीच एक बार फिर से टकराव का रास्ता खुल रहा है. इस बार यह टकराव एएमयू के नाम पर होगा.

दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल के इस मामले में कूद पड़ने के बाद अब इस मामले में उम्मीद जताई जा रही है कि यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादल व उनके अन्य मंत्री भी जल्दी ही कोई न कोई बयान ज़रूर देंगे. ऐसे में एएमयू का यह मामला शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी दखलअंदाज़ी को हाईलाईट करने और उसके रोकने का एक बेहतरीन नज़ीर बन सकता है.

दरअसल, केन्द्र सरकार की तरफ़ से सुप्रीम कोर्ट में एएमयू को अल्पसंख्यक दर्जा पर अपना स्टैंड बदलने के बाद फेडरेशन ऑफ जामिया नगर आरडब्ल्यूए व एएमयू ऑल्ड ब्वायज़ के दिल्ली यूनिट की एक टीम ने मंगलवार ओखला विधायक अमानतुल्लाह खान की क़यादत में अरविन्द केजरीवाल से मुलाक़ात की. इस मुलाक़ात में इस टीम ने एएमयू के पूरे मामले से रूबरू कराया और इस संबंध में एक मेमोरेंडम भी दिया.

इस मसले पर वहां ओखला विधायक अमानतुल्लाह ने भी अपने विचारों से सीएम केजरीवाल को रूबरू कराया. अमानतुल्लाह खान ने कहा कि –‘एएमयू मुसलमानों का इदारा है. बीजेपी सरकार जो कि संघ परिवार के हाथों में है, कभी नहीं चाहती कि इस इदारे को बढ़ने दिया जाए.’

उन्होंने अपनी बात रखते हुए कहा कि –‘एक तरफ़ तो मोदी सरकार ‘सबका साथ –सबका विकास’ की बात कर रही है, लेकिन दूसरी तरफ़ मुसलमानों को तालीम से दूर रखने के लिए क़ानूनी तौर से अल्पसंख्यक संस्थानों को कमज़ोर कर रही है.’

अमानतुल्लाह खान के इन विचारों के बाद अरविन्द केजरीवाल ने उनसे मिलने आए लोगों को यक़ीन दिलाया कि –‘हम इस सिलसिले में बात कर रहे हैं. मुझे अभी इस सिलसिले में पता चला है. हम अलीगढ़ भी जाएंगे और जो कुछ हो सकता है, हम करेंगे. हम इस मामले में पूरी तरह से आपके साथ हैं. इस सिलसिले में जल्दी एक मीटिंग करेंगे और उसके बाद दुबारा अगले हफ़्ते आप सबसे इस बारे में मुलाक़ात करेंगे.’  साभार: Afroz Alam Sahil, TwoCircles.net


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें