नई दिल्ली | मशहूर लिखिका और मावाधिकार के मुद्दे पर अपनी मुखर राय रखने वाली अरुंधती राय आजकल परेश रावल के एक बयान की वजह से सुर्खियों में है. बीजेपी सांसद और अभिनेता परेश रावल ने कश्मीर में पत्थरबाजी रोकने के लिए सेना को सलाह देते हुए कहा था की सेना को अपनी जीप के आगे पत्थरबाज को बाँधने की बजाय अरुंधती राय को बांधना चाहिए.

परेश रावल के इस बयान के बाद उनकी सोशल मीडिया पर खूब आलोचना हो रही है. अब इसी मामले पर अरुंधती राय ने अपनी चुप्पी तोड़ी है. परेश रावल के बयान के दो दिन बाद अरुंधती ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा की मैं इस मामले पर कोई प्रतिक्रिया नही देना चाहती क्योकि मुझे अभी बहुत काम है. उनके बयान से लगता है की वो इस मामले को ज्यादा तूल नही देना चाहती.

एनडीटीवी पत्रकार ने जब अरुंधती से परेश रावल के बयान पर उनका जवाब जानना चाह तो उन्होंने कहा की मैं इसे तूल नहीं देना चाहती और इस वक्त मैं कई जरूरी कामों में व्यस्त हूं. अगले महीने मेरी एक एक किताब आने वाली है, जो दुनिया के 30 देशो में रिलीज़ होगी. मालूम हो की अरुंधती , कश्मीर पर अपनी अलग राय रखने के लिए जानी जाती है. यही वजह है की कुछ लोग उनकी राय से इत्तेफाक नही रखते और उनके खिलाफ बयानबाजी करते रहते है.

लेकिन एक सांसद होने के नाते परेश रावल को इस तरह के बयान शोभा नही देते. इस तरह के बयान से समाज में हिंसा का सन्देश जाता है. इस बारे में एक ट्वीटर यूजर लिखता है की एक सांसद उग्रवादी भीड़ को भड़का रहा है और एक थिएटर कलाकार और एक अभिनेता, एक लेखिका के खिलाफ हिंसा को प्रोत्साहित कर रहा है. मालूम हो की सेना ने पत्थरबाजो से बचने के लिए एक शख्स को अपनी जीप के आगे बाँध दिया था जिस पर काफी हो हल्ला हुआ था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE