नई दिल्ली – 1990 के बाद सेना पर हुए अब तक के सबसे बड़े हमले को लेकर देश की जनता में इस समय गुस्से का माहौल है. जहाँ बीते रविवार को घाटी में हुए हमले में अब तक 18 जवान शहीद हो चुके है. देश में 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार इतने बड़े स्तर पर प्रधानमन्त्री मोदी की पाकिस्तानी निति की समीक्षा हो रही है.

कुछ महीने पूर्व Pew रिसर्च सेंटर के एक सर्वे में भारत की पाकिस्तान नीति को लेकर कई बड़ीं बातें सामने आई हैं. जिसमे लगभग देश की आधी आबादी ने मोदी सरकार की विदेश नीति को पूरी तरह नकार दिया है. आधे से अधिक लगभग 60% लोगो का मानना है की पाकिस्तान के खिलाफ सैन्य करवाई होनी चाहिए.

और पढ़े -   नोटबंदी और जीएसटी से जीडीपी पर प्रतिकूल असर पड़ा है: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह

ये रहीं उस सर्वे में आईं छह बड़ी बातें-

1. सर्वे की सबसे बड़ी बात यह है कि इसमें शामिल 50% से अधिक लोगों ने पीएम मोदी की पाकिस्तान पॉलिसी को खारिज कर दिया है. वहीं पीएम की वर्तमान पाक नीति को महज 22% लोगों का समर्थन हासिल है.

2. इस सर्वे में एक और बड़ी बात सामने आई है कि 60% भारतीय पाकिस्तान के खिलाफ ज़्यादा से ज़्यादा सैन्य कर्रवाइ का समर्थन करते हैं.

और पढ़े -   बुलेट ट्रेन को लेकर आशुतोष राणा का तंज कहा, उधार की 'चुपड़ी' रोटी से अच्छी श्रम से अर्जित की गयी 'सुखी' रोटी

3. 40 पन्नों की इस रिपोर्ट के हवाले से Pew ने बताया है कि 52% फीसदी भारतीय को ISIS से भारत को खतरा होने का डर सताता है.

4. वहीं 62% लोगों का मानना है कि आतंकवाद के खिलाफ सैन्य कर्रवाइ सबसे उम्दा विकल्प है.

5. 68% फीसदी लोगों का मानना है कि बीते 10 साल की तुलना में वैश्विक मामलों में भारत का प्रभाव बढ़ा है.

और पढ़े -   गुजरात दंगों की जांच करने वाले वाईसी मोदी बने एनआईए प्रमुख

6. सर्वे की माने तो केंद्र सरकार चला रही बीजेपी (भारतीय जनता पार्टी) के 54% और कांग्रेस के 45% समर्थकों ने पाकिस्तान को लेकर पीएम के रुख को खारिज किया है. वहीं रक्षा बजट बढ़ाए जाने को भी समर्थन मिला है.

ये सर्वे पठानकोट एयरबेस हमले के कुछ महीनों बाद किया गया था. ये सर्वे इसी साल सात अप्रैल को किया गया था. इसकी रिपोर्ट बीते सोमवार को सार्वजनिक की गई है. इसमें कुल 2464 लोगों को शामिल किया गया था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE