नई दिल्ली | पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में किसानो द्वारा जलाई जा रही पुराल की वजह से दिल्ली और आस पास के इलाको में जबरदस्त स्मोग का छाया हुआ है. दिल्ली का असमान धुएं से पटा पड़ा है जिसकी वजह से लोगो को सांस लेने में भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालाँकि दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने पडोसी राज्य सरकारों से आग्रह किया है की वो अपने यहाँ किसानो द्वारा पुराली जलाने पर रोक लगाये.

लेकिन तीनो राज्यों की सरकारों ने अपने हाथ खड़े कर दिए है. केजरीवाल ने हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री से मुलाकात का समय भी माँगा लेकिन दोनों मुख्यमंत्रियों ने काम का हवाला देकर उनसे मिलने से मना कर दिया. यहाँ तक तो सही था की दोनों राज्य न दिल्ली की सहायता करना चाहते है और न सहयोग. लेकिन हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने मामले में बेहद ही असंवेदनशील बयान देकर केजरीवाल सरकार पर तंज कसने का प्रयास किया है.

उन्होंने केजरीवाल सरकार से कहा है की उन्हें हरियाणा के किसानो को पुराली नही जलाने के एवज में अनुदान देना चाहिए. एक ट्वीट के जरिये अनिल विज ने लिखा,’ केजरीवाल सरकार को स्मोग से बचने के लिए हरियाणा के किसानों को पराली न जलाने के लिए अनुदान देने चाहिए . हरियाणा जो चावल पैदा करता है उसे दिल्ली भी तो खाता है.’ अनिल विज के इस बयान पर आप नेता और कवि कुमार विश्वास ने तुरंत पलटवार किया.

उन्होंने अनिल विज को ‘मानसिक दिव्यांग’ बताते हुए कहा की यह हमारे देश की महानता है की इनके जैसा व्यक्ति भी किसी राज्य का स्वास्थ्य मंत्री बन सकता है. उन्होंने ट्वीट कर कहा,’यह भारतीय लोकतंत्र की महानता ही है कि “मानसिक-दिव्यॉंग” व्यक्ति भी किसी प्रदेश का स्वास्थ्य-मंत्री बन सकता है.’ इससे पहले कुमार विश्वास ने मीडिया पर भी तंज कसते हुए ट्वीट किया,’ साँस बंद smog के कारण?आइए 400 साल पुराने ताजमहल जैसे विषयों पर लड मरें,या कुत्ता-गधा-गाय पर चर्चा करें.साँसों का क्या है आती-जाती रहती हैं.’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE