jaya-650_051311033836

चेन्नई | दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में लोक का कितना तंत्र है, इसका मुजायरा तमिलनाडु में देखने को मिल रहा है. जहाँ जनता त्रस्त है और प्रदेश के मुख्यमंत्री की सेवा में सारा तंत्र लगा हुआ है. न थाने में पुलिस है और न ही दफ्तरों में अधिकारी. मंत्री तमाशा करने में व्यस्त है और जिस लोक का तंत्र है वो दर दर भटक रहा है.

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता पिछले एक महीने से अस्पताल में भर्ती है. उनको बुखार और डीहाईड्रेसन की वजह से 22 सितम्बर को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी अनुपस्थिति में पनीरसेलवम को तमिलनाडु का कार्यकारी मुख्यमंत्री बनाया गया है. कल पनीरसेलवम ने जयललिता की फोटो सामने रखकर कैबिनेट की मीटिंग ली थी.

आज तमिलनाडु से एक और चौकाने वाली खबर आई है. खबर है की चेन्नई के थानों की सारी पुलिस अपोलो अस्पताल के आस पास लगाई गयी है. इसके अलावा ज्यादातर अधिकारी भी अपोलो अस्पताल में हाजिरी लगा रहे है. टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी खबर के अनुसार जो लोग थानों में अपनी शिकायत लेकर जा रहे है उनकी शिकायत दर्ज नही की जा रही है.

टी नगर इलाके के महावीर चंद ढोका जब थाने में धोखाधड़ी की शिकायत लेकर पहुंचे तो वहां मौजूद एक कांस्टेबल ने उनको यह कहकर लौटा दिया की थानों में स्टाफ नही है इसलिए आपकी शिकायत नही लिखी जायेगी. ऐसी है दलील अन्ना नगर के जयंती हार्वी को दी गयी. जयंती के घर चोरी हो गयी थी , जब वो थाने पहुंचे तो उन्हें बताया गया की सारा स्टाफ मुख्यमंत्री जयललिता की सेवा में अपोलो अस्पताल में लगाया गया है.

उधर जयललिता से मिलने राजनेताओ का जमावडा लगा हुआ है. राहुल गाँधी से लेकर अमित शाह तक जयललिता से मिलने आ चुके है. वही अपोलो अस्पताल के बाहर AIDMK के कार्यकर्ताओ का जमावड़ा लगा हुआ है. जयललिता के स्वास्थ्य के बारे में डॉक्टर कुछ भी कहने को तैयार नही है. उनके स्वास्थ्य पर सस्पेंस बना हुआ है. वोइस हिंदी जयललिता के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें