जेएनयू के छात्रों द्वारा ‘देश विरोधी’ नारे लगाए जाने के आरोप के बाद मचे बवाल के बीच केंद्र सरकार ने देश की सभी सेंट्रल यूनिवर्सिटी में राष्ट्रीय ध्वज लगाए जाने के आदेश दिए हैं। ऐसा झंडा सबसे पहले जेएनयू में ही लगाया जाएगा।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने आदेश दिया है कि देश की सभी सेंट्रल यूनिवर्सिटी में 207 फुट ऊंचे पोल पर 125 किलोग्राम वजन वाला राष्ट्रीय ध्वज लगाया जाए।

हर सेंट्रल यूनिवर्सिटी में तिरंगा जरूरी, JNU से शुरुआत

इस आदेश में कहा गया है कि ऐसा सबसे पहला झंडा दिल्ली की (जेएनयू) जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में ही लगाया जाएगा।

उधर, जेएनयू विवाद को लेकर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा है कि इस पूरी घटना में कन्हैया कुमार की अहम भूमिका थी। उन्होंने कहा, ‘जेएनयू में देशविरोधी नारेबाजी को कन्हैया कुमार रोक सकता था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। इस पूरे गिरोह का नेता वही था।’

अदालत में कन्हैया कुमार द्वारा खुद को देशभक्त बताए जाने को लेकर उन्होंने कहा कि ये लोग बेहद चालाक हैं, यूनिवर्सिटी में देश के खिलाफ नारे लगाते हैं और अदालत में कुछ और बयान देते हैं। (navbharattimes)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें