लखनऊ | पिछले एक महीने से समाजवादी परिवार में कुछ भी ठीक नही चल रहा है. बाप-बेटे, चाचा-भतीजे के बीच आई दरारे और गहरी होती जा रही है. लेकिन इन सबके बावजूद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव , प्रदेश के प्रति अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन बखूबी कर रहे है. यही नही अखिलेश यादव की छवि एक दरियादिल मुख्यमंत्री की भी रही है. इसका उदहारण वो समय समय पर पेश करते रहते है.

एक ऐसा ही उदहारण अभी हाल ही में देखने को मिला जब मुख्यमंत्री अखिलेश ने एक रिक्शावाले को ऐसा उपहार दिया की वो इस दिवाली को जिन्दगी भर नही भूल पायेगा. दरअसल मुख्यमंत्री अखिलेश से मिलने paytm के सीईओ विजय शेखर आने वाले थे. बीच रास्ते में अधिक ट्रैफिक होने की वजह से विजय शेखर की गाडी जाम में फंस गयी. मुख्यमंत्री से मिलने के लिए , दिए गए समय में पहुँचाना भी जरुरी था.

और पढ़े -   हामिद अंसारी ने 2015 में भी कहा था, मुस्लिमों का विकास सुरक्षा की भावना की बुनियाद पर हो

जब कोई रास्ता नही दिखाई दिया तो विजय शेखर ने अपनी गाडी वही छोड़ी और एक रिक्शा में बैठकर मुख्यमंत्री आवास पहुंचे. रिक्शावाले ने मुख्यमंत्री आवास में विजय शेखर से किराया माँगा तो अखिलेश ने उसे अपने पास बुलाया और 6 हजार रुपये दिवाली का इनाम दिया. अखिलेश की दरियादिली यही कम नही हुई , उसने रिक्शावाले को एक इ-रिक्शा भी उपहार में दी जिससे वो और अधिक मेहनत कर और ज्यादा पैसे कमा सके.

और पढ़े -   दिल्ली के सरकारी स्कूलों की केजरीवाल ने की कायाकल्प , 900 बच्चो ने निजी स्कूल छोड़ लिया सरकारी स्कूल में एडमिशन

हालांकि उस रिक्शावाले के लिए यह काफी बड़ा उपहार था लेकिन अखिलेश अभी कहाँ रुकने वाले थे. अखिलेश ने रिक्शावाले की वो ख्वाहिश पूरी कर दी जो हर आदमी , एक बड़े शहर में आकर हमेशा देखता है. अखिलेश ने उसको लखनऊ में एक घर भी उपहार में दिया. इतना सब कुछ पाकर रिक्शा वाला बेहद खुश हुआ. वाकई में अखिलेश यादव ने एक मजदुर को घर देकर बड़ी मिसाल कायम की है. इसकी एक तस्वीर , अखिलेश ने ट्वीटर पर शेयर की है.

और पढ़े -   40000 रोहिंग्या मुसलमान जल्द ही निकाले जायेंगे भारत से बाहर

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE