सौजन्य से: ANI

अयोध्या | पिछले 68 सालो से राम मंदिर निर्माण पर चल रहा विवाद अब और जोर पकड़ रहा है. खासकर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी ने इस मुद्दे को दोबारा सुर्खियों में ला दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षकारो से कहा है की वो इस मुद्दे को अदालत के बाहर बातचीत के जरिये सुलझाने का प्रयास करे. हालाँकि दोनों ही पक्षों ने अभी तक बातचीत में कोई रूचि नही दिखाई है.

लेकिन अदालत के सुझाव के बाद राम मंदिर निर्माण की मांग और तेजी से उठने लगी है. चौकाने वाली बात यह है की एक मुस्लिम मंच भी सामने आया है जिसने अयोध्या में राम मंदिर निर्माम करने की मांग की है. श्री राम मंदिर निर्माण मुस्लिम कारसेवक मंच के नाम से बने इस संगठन ने कुछ दिन पहले लखनऊ में राम मंदिर निर्माम की मांग करते हुए पोस्टर भी लगाए थे.

खबरों के अनुसार मुस्लिम कारसेवक मंच गुरुवार को अयोध्या पहुंचा. यहाँ उन्होंने स्थानीय लोगो से भी मुलाकात की. यही नही कारसेवक मंच अपने साथ एक ट्रक इंट का भी लेकर पहुंचा है. इस मंच के राष्ट्रिय अध्यक्ष आजम खान का कहना है की राम मंदिर निर्माण मुस्लिम समाज का मकसद है. इसलिए राम लला अब टेंट में नही रहेंगे. उनके लिए भव्य मंदिर का निर्माण किया जाएगा.

आजम खान ने आगे कहा की राम मंदिर निर्माण से देश का विकास होगा और दोनों समुदाय के बीच नफरत की खाई कम होगी. हम इसके लिए मुस्लिम समाज के लोगो से भी आह्वाहन करेंगे. आजम खान के साथ लखनऊ की गोरखपुर बस्ती से करीब 50 मुस्लिम समाज के लोग अयोध्या पहुंचे थे. लेकिन जैसे ही पुलिस को इसकी सूचना मिली की मुस्लिम कर सेवक मंच इंट के ट्रक के साथ पहुंचा है तो उन्होंने तुरंत वहां पहुंचकर उन्हें समझा बुझाकर वापिस भेजा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE