najib

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में नजीब अहमद को पिछले दस दिनों से तलाश जारी हैं लेकिन अब भी नजीब अहमद के बारे में कोई सुराग नहीं हैं. ABVP कार्यकर्ताओं की मारपीट के बाद से ही नजीब अहमद  का कोई पता नहीं हैं. दिल्ली पुलिस ने भी नजीब के बारे में सुचना देने वाले को ईनाम की राशि 50000 से बढ़ाकर 100000 रूपये कर दी हैं.

और पढ़े -   हेड कांस्टेबल ने अपनी ही विवाहित बेटी को बनाया हवस का शिकार, दो दिन बाद होने वाला था रिटायर

नजीब के मामले में कारवाई से संतुष्ट न होकर छात्रों ने कक्षाओं का बहिष्कार करना शुरू कर दिया हैं. साथ ही अब ये मामला अल्पसंख्यक आयोग तक पहुँच चूका हैं. इस बारें में जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष मोहित पांडेय का कहना है कि इस मामले को लेकर जेएनयू छात्रसंघ गंभीर है. हम शुरू से ही नजीब को खोजने के लिए प्रशासन पर दबाव डाल रहे हैं.

और पढ़े -   कब्रिस्तान का पेड़ काटने का विरोध करने पर बीजेपी नेता ने फाड़ी धार्मिक पुस्तक, लूटपाट करने का भी आरोप

उन्होंने आगे कहा कि इस मुद्दे को लेकर हम देश के अन्य विश्वविद्यालयों में भी जाएंगे. अभी हमारे प्रतिनिधि ने अल्पसंख्यक आयोग में इस बाबत एक ज्ञापन सौंपा है. जिस तरह से रोहित वेमुला के मुद्दे को लेकर राजनीति हुई और प्रशासनिक उदासीनता दिखाई गई नजीब के मामले में भी वैसा ही हो रहा है.

इसके अलावा छात्र संगठन नजीब अहमद के साथ मारपीट करने वाले ABVP के कार्यकर्ताओं पर कारवाई की मांग कर रहे हैं.

और पढ़े -   ट्रेन में मुस्लिम युवक की हत्या के आरोपी ने कबूला - बीफ खाने और पाकिस्तान जाने की कही थी बात

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE