hashim

बाबरी मस्जिद विवाद के मुख्य पैरोकार हाशिम अंसारी के निधन के बाद उनके बेटे इस केस के पैरोकार बनेंगे. इस बारे में बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने कहा है कि मामला सुप्रीम कोर्ट में है और हाशिम अंसारी ने अपने बेटे को उत्तराधिकारी बना रखा है. इस लिए इस मामले में उनके निधन से कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

वही दूसरी ओर रामलला विराजमान के वकील ने कहा कि हाशिम के निधन से कोर्ट केस पर कोई असर नहीं पड़ेगा. उन्होंने सभी पक्षकारों में हाशिम को नेक नियत और साफ दिल इंसान बताया. साथ ही उन्होंने कहा कि, हाशिम ने अयोध्या और फैजाबाद में अमन शांति के लिए काफी प्रयास किये.

और पढ़े -   अर्नब गोस्वामी की बड़ी परेशानी - कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दायर किया मानहानि का मुकदमा

जीलानी ने उन दिनों को याद करते हुए बताया कि अंसारी इतने नेक दिल इंसान थे कि उन्होंने कभी इस मुद्दे को लेकर कोई वित्तीय फायदा उठाने की कोशिश नहीं की. वह न बिके और न ही कभी किसी के सामने झुके.जिलानी ने कहा कि हाशिम अंसारी की आखरी इच्छा पूरी न हो सकी वे चाहते थे कि उनके जिन्दा रहते इस मसले का आपसी बातचीत से सुलह हो जाए.

और पढ़े -   बाबरी मस्जिद शहादत मामले में सीबीआई कोर्ट ने की आडवाणी की हाजिरी माफी की अर्जी मंजूर

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE