मेरठ में फूड सेफ्टी ऐंड ड्रग्‍स एडमिनिस्‍ट्रेशन (एफएसडीए) की एक टीम ने योगगुरु बाबा रामदेव के बहुप्रचारित पतंजलि आटा नूडल्‍स को ‘खराब’ पाया है। टीम ने आटा नूडल्‍स के सैंपल्‍स में ऐश कॉन्‍टेंट की मात्रा तय सीमा से तीन गुनी तक ज्‍यादा पाई है। यह मात्रा मैगी सैंपल्‍स से भी ज्‍यादा है।

टीम की तरफ से पतंजलि आटा नूडल्‍स, मैगी और यिपी के सैंपल्‍स पर टेस्‍ट किए गए थे। ये सैंपल्‍स 5 फरवरी 2016 को मेरठ से जमा किए गए थे। इसी टेस्‍ट की रिपोर्ट शनिवार को सामने आई। इन सभी तीनों नूडल्‍स ब्रैंड्स के सैंपल में जो ऐश कॉन्‍टेट पाया गया है, उसकी मात्रा काफी अधिक है।

 रामदेव का प्रॉडक्ट है पतंजलि आटा नूडल्स

नियमों के मुताबिक, ऐश कॉन्‍टेंट की मात्रा महज 1 प्रतिशत होनी चाहिए। लेकिन इन सभी तीनों सैंपल्‍स इस बारे में हुए टेस्‍ट में फेल हो गए और उन्‍हें खाने के लिए खराब बताया गया है।

रिपोर्ट के बारे में बताते हुए चीफ फूड सेफ्टी ऑफिसर जेपी सिंह ने कहा, ‘पतंजलि आटा नूडल्‍स के सैंपल में ऐश कॉन्‍टेंट 2.69 प्रतिशत पाया गया है। यह तीनों ब्रैंड्स में सबसे ज्‍यादा है। मैगी में ऐश कॉन्‍टेंट की मात्रा 1.63 प्रतिशत औ यिपी में 2.1 प्रतिशत पाई गई। रिपोर्ट की बात मानें तो खाने के लिए सबसे ज्‍यादा नुकसानदायक पतंजलि आटा नूडल्‍स है।’ (NBT)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें