collage

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी द्वारा पीएम मोदी पर सेना के जवानों के खून की दलाली का आरोप लगाने के बाद उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था लेकिन अब पीएम मोदी पर देश की सुरक्षा करते हुए शहीद हुए पिछले साल समोद सिंह की विधवा सीमा देवी और उनके परिजनों ने भी यही आरोप लगाया हैं.

गांव भवनपुरा के समोद सिंह अक्टूवर 2015 में जम्मू-कश्मीर बॉर्डर पर आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए थे.  मथुरा के गोवर्धन तहसील के गांव भुवनपुरा में रह रही शहीद की विधवा सीमा देवी ने कहा कि  प्रधानमंत्री ने शहीदों के लिए कुछ भी नहीं किया.

उन्होंने आगे कहा, पीएम मोदी ने जवानों की शहादत के वक्त आश्रित परिवार को भरण-पोषण और सुरक्षा का वायदा तो किया, लेकिन बाद में सब कुछ भूल गए. यहाँ तक कि पति का स्मारक भी वह स्वयं अपनी धनराशि से ही बनवा रही हैं. सीमा के अनुसार उनके पति की शहादत के बाद न तो किसी सरकारी अधिकारी ने उनके बच्चों की पढाई-लिखाई की व्यवस्था की, न ही परिवार के रोजी-रोटी के लिए किसी को नौकरी मिली

शहीद समोद की मां बीना सिंह ने कहा कि उनके बेटे की शहादत के बाद कई राजनेता आए और बड़े-बड़े वादे करके चले गए. उन्होंने आगे बताया कि उन्हें भी पेंशन नहीं दी जा रही है. उन्होंने कहा, ऐसे ही न जाने कितने शहीदों के परिवार होंगे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें