del

बुरहान वानी की मौत के बाद कश्मीर में भड़की हिंसा के चलते अमन बहाली के लिए गए सर्वदलीय डेलीगेशन को पहले अलगाववादी नेताओं के विरोध का सामना करना पड़ा उसके बाद श्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व करने वाले संगठन पनून कश्मीर ने भी डेलीगेशन से मिलने से इंकार कर दिया.

Eenadu India की रिपोर्ट के अनुसार सर्वदलीय शिष्टमंडल के साथ बैठक का बहिष्कार करते हुए कहा कि यह सिर्फ आंखों में धूल झोंकना है. पनून कश्मीर ने बैठक के लिए तय की गई समयसीमा पर भी सवाल खड़े करते हुए कहा कि बैठक के लिए सिर्फ आठ मिनट का समय दिया गया, जो नाकाफी था.

पनून कश्मीर के संयोजक अग्निशखेर ने कहा कि ‘‘हम आज यहां सर्वदलीय शिष्टमंडल के साथ बैठक का बहिष्कार कर रहे हैं क्योंकि यह केवल आंखों में धूल झोंकना है जो यह दिखाने का प्रयास कर रहा है कि राष्ट्रवादियों को भी वार्ता में शामिल किया गया है, जबकि वे कश्मीर में अलगाववादियों से शिष्टमंडल के सदस्यों के लिए कम से कम दरवाजा खोलने की भीख मांग रहे हैं.”

वहीँ केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के जम्मू कश्मीर के दौरे को विफल मानने से साफ इंकार करते हुए कहा कि अब दिल्ली जाकर आगे की कार्रवाई की कार्ययोजना तैयार की जाएगी. गृह मंत्री ने कहा कि प्रतिधिनिमंडल दिल्ली जाकर जम्मू और कश्मीर में विभिन्न लोगों के साथ हुई बातचीत के नतीजों पर चर्चा करेगा तथा सरकार की आगे की कार्रवाई पर कार्ययोजना तैयार की जाएगी.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें