नई दिल्ली। आरक्षण पर लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के बयान के बाद अब आम आदमी पार्टी (आप) के नेता व प्रवक्ता कुमार विश्वास का बड़ा बयान आया है। कुमार विश्वास जातिगत आरक्षण की बजाय आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की बात कही है। जाति नहीं आर्थिक आधार पर आरक्षण पर ये बड़ा बयान आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने अहमदाबाद में दिया है।

आईआईएम के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए विश्वास अहमदाबाद पहुंचे थे। आपको बता दें कि आरक्षण पर कुमार विश्वास का ये बयान नया विवाद खड़ा कर सकता है। इससे पहले लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने अहमदाबाद में ही कहा था कि जातिगत आरक्षण के लिए राजनेता दोषी हैं। अहमदाबाद में स्मार्ट सिटीज को लेकर हुए कार्यक्रम में बोलते हुए सुमित्रा महाजन ने कहा, ‘जिनके लिए आरक्षण दिया गया था उनका उत्थान अब तक नहीं हुआ है। यह चिंता की बात है। इसके लिए शायद मेरे जैसे नेता ही जिम्मेदार हैं।’

और पढ़े -   शिवराज में जंगलराज, बंधुआ मजदूरी से मना करने पर दलित महिला की काटी गयी नाक

महाजन ने कहा, ‘अंबेडकर जी ने कहा था, आरक्षण 10 साल के लिए दिया जाना चाहिए। इसके बाद इसकी समीक्षा होनी चाहिए। पिछड़े लोगों को इस स्तर पर लाना चाहिए। हमने ऐसा कुछ नहीं किया। हमने कभी इस बात पर ध्यान नहीं दिया और ना ही इसकी समीक्षा की।’

गौरतलब है कि मोहन भागवत के आरक्षण संबंधित एक बयान को लेकर कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। पिछले साल बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण की समीक्षा की वकालत की थी।

और पढ़े -   मोहम्मद कैफ और शबाना आजमी ने तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत , हुए ट्रोल

भागवत ने कहा था कि आरक्षण को हमेशा राजनीतिक उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल किया गया। तब केंद्र सरकार भागवत के बयान को लेकर बैकफुट पर आ गई थी और ये साफ कर दिया था कि वो आरक्षण में किसी भी तरह की समीक्षा नहीं करने जा रही है। साभार: नईदुनिया


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE