1000

केंद्र सरकार 500-1000 के नोट वापस लेने के फैसले को ब्लैकमनी की रोक पर एक प्रभावी कदम के तौर पर बता रही है लेकिन दूसरी तरफ अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) ने सरकार के इस फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि 500 और 1,000 रुपये के नोट वापस लेने से काले धन पर लगाम लगाने में मदद नहीं मिलेगी, क्योंकि यह विदेशी बैंकों, विदेशी मुद्रा, सोने या अन्य संपत्ति के रूप में जमा है.

और पढ़े -   केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का इफ्तार पार्टी को लेकर विवादित बयान कहा, नौटंकी करने की क्या जरुरत

एआईबीईए के महासचिव सी. एच. वेंकटचलम ने मंगलवार रात कहा, “हर कोई जानता है कि अधिकांश काला धन नकदी के रूप में कम और विदेशी बैंकों, विदेशी मुद्रा, सोने या अन्य संपत्ति के रूप में जमा है, इसलिए केवल यह कदम काले धन को बाहर लाने में मदद नहीं करेगा.”

उन्होंने आगे कहा, “दूसरा, इस कदम से नकली नोटों की समस्या भी दूर नहीं हो सकती, इसलिए जब तक हम नकली नोटों के मूल कारण पर लगाम नहीं लगाएंगे, नए नकली नोट आ जाएंगे.”

और पढ़े -   मुसलमानों पर हो रहे हमलो के बीच मोदी की चुप्पी पर उठ रहे सवाल, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा आया बचाव में

इसी के साथ उन्होंने इस फैसले को लेकर हो रही जनता की परेशानी के बारे में कहा कि जब तब आरबीआई बैंकों की शाखाओं और एटीएम में नए नोटों की आपूर्ति नहीं करता, जो कि अगले 24/48 घंटों में किसी भी प्रकार संभव नहीं है, आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE