29_08_2016-hoc2

विश्वस्तरीय खेल पटल ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व कर लौटी महिला हॉकी टीम की खिलाड़ियों को घर लोटने के दौरान ट्रेन में सीट नहीं मिलने पर फर्श पर बैठकर यात्रा करने को मजबूर होना पड़ा.

खबरों के मुताबिक ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने वाली चार महिला खिलाड़ियों नमिता टोप्पो ,दीप ग्रेस इक्का, लिलिमा मिंज तथा सुनीता लाकरा जब घर लौटते समय रांची से राउरकेला जा रही धनबाद-एल्लेपे एक्सप्रेस से यात्रा कर रही थीं तब उन्हें बैठने के लिए एक भी सीट नसीब नहीं हुई.

सबसे हैरानी की बात ये हैं कि ये चारों रेलवे की कर्मचारी भी हैं. इनके पास रेलवे द्वारा जारी किया गया यात्रा पास भी था, पर टीटीई इनके लिए सीट की व्‍यवस्‍था नहीं कर सके.

इस बारें में सुनीता ने कहा- हमने टीटीई को अपनी पहचान भी बताई और उनसे आग्रह किया कि हम सभी पिछले कई दिनों के सफर से थकी हुई हैं और हो सके तो एक-दो सीटें बैठने के लिए उपलब्ध करा दें. टीटीई ने सीट देने में असमर्थता जता दी और हमें फर्श में बैठने को मजबूर होना पड़ा.

रेलवे ने ट्वीट कर बताया, ”रांची एयरपोर्ट पहुंचने के बाद हॉकी खिलाड़ी बिना जानकारी दिए ट्रेन में सवार हो गए. टीटीई ने उन्‍हें सीट देने के लिए 20 मिनट लिए. हॉकी खिलाडि़यों को कोई शिकायत नहीं है. वे अपने परिवार से मिलने की जल्‍दबाजी में थीं, इसलिए सफर के कार्यक्रम में बदलाव किया। खिलाडि़यों के फर्श पर बैठने की बात झूठी है.”


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें