sikh

केंद्र सरकार द्वारा गठित एसआईटी ने 1984 सिख दंगों से संबंधित 75 केस दोबारा खोलने का फैसला किया है। एसआईटी ने ये फैसला दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के उस पत्र के बाद लिया है जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जांच की प्रगति के संबंध में कई सवाल किए थे।

गोरतलब रहें कि केजरीवाल ने पिछले साल फरवरी में दिल्ली सरकार में आने के बाद भी मोदी सरकार को पत्र लिखकर कहा था कि केंद्र की एसआईटी तो एक भी केस रीओपन नहीं कर पाई ऐसे में दिल्ली सरकार को नई एसआईटी गठित करने की आज़ादी दी जाए।

और पढ़े -   यरूशलम फ़िलस्तीन और इस्लाम का है और इज़राइल इसे नहीं छीन सकता- मुफ़्ती अशफ़ाक़

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्‍या के बाद भड़के सिख विरोधी दंगों में तीन हजार से ज्यादा मौतें हुई थी। इन दंगों में दिल्ली में ही 2733 लोग मारे गए थे। सिख विरोधी दंगों में 587 केस दर्ज हुए थे जिनमें से 241 को पीड़ितों के सामने न आने के चलते बंद कर दिया गया था। इनमें से चार को साल 2006 और एक को 2013 में फिर से खोला गया जिसमें 35 को सजा भी हुई। हालांकि 237 केस अब भी ऐसे ही बंद पड़े हैं।

और पढ़े -   अब मेरठ में शुरू हुई जातीय हिंसा, जाटो और दलित के बीच जबरदस्त खुनी संघर्ष , एक की मौत

 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE