Jaish-e-Mohammad chief, Masood Azhar
Jaish-e-Mohammad chief, Masood Azhar

24 दिसंबर 1999 को इंडियन फ्लाइट-814, जिसमे 176 लोग सवार थे, हाईजैक कर लिया गया था, जिसको लेकर जैश-ए-मोहम्मद के चीफ मसूद अज़हर ने दावा किया हैं की भारत ने तालिबान को पैसो का ऑफर दिया था. जिसके बदले में भारत को मसूद और उसके दोनों साथी चाहिए थे.

कई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड मसूद का कहना हैं की, पूर्वी विदेश मंत्री जसवंत सिंह ने यह ऑफर तालिबान के चीफ मुल्ला अख्तर मोहम्मद मंसूर को दिया था. जो पिछले महीने अमेरिकी हमले के दौरान मारा जा चूका हैं. कंधार में हुए विमान हाईजैक के वक़्त मुल्ला मंसूर तालिबान के इस्लामिक अमीरत ऑफ अफगानिस्तान का नागरिक व एविएशन मिनिस्टर था.

इसके बाद मसूद ने कहा की मंसूर ने मुझसे बताया था की वह जसवंत सिंह से मिले थे. जिसके दौरान उन दोनों के बीच यह बात हुई की तुम मसूद को हमको सौंप दो हम तुमको माला-माल कर देंगे.

वही दूसरी ओर भारतीय अखबार इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक विदेश मंत्रालय में पाकिस्तान-अफगानिस्तान-ईरान की डेस्क संभाल रहे पूर्व राजनयिक विवेक काटजू ने इस बात की निंदा करते हुए कहा की यह सरासर गलत हैं. मैं उस वक़्त जसवंत सिंह के साथ था. कंधार एयरपोर्ट पर मौजूद रॉ के पूर्व अफसर आनंद अर्नी ने भी कहा, ‘जहां तक मुझे याद है, मुझे नहीं लगता कि मंसूर और जसवंत सिंह मिले थे.’

Web-Title: 16 years later , revealing Masood Azhar claimed that India had offered the money to the Taliban.

Key-Words: Taliban, India, Azhar, Masood, JEM, Kandhar , Plane Hijack, Jaswant Singh


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें