Screenshot_2

पीस टीवी के संस्थापक और विवदास्पद उपदेशक ज़ाकिर नाईक के ऊपर भारत में केंद्र सरकार प्रतिबंध लगा सकती है. प्राप्त सूचना अनुसार ज़ाकिर नाईक के भाषणों और पीस टीवी पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम भड़काऊ और बेहद आपत्तिजनक पाए जाने के बाद केंद्र सरकार इस संबंध में कानूनी राय ले रहा है.

इस वक़्त ज़ाकिर नाईक की जांच में भाषणों, सोशल साइट्स, विदेशी दौरे और इस दौरान रही गतिविधियों के साथ-साथ नाईक के एनजीओ इस्लामिक रिसर्च सेंटर को प्राप्त होने वाली विदेशी फंडिंग के लिए भारत की एनआईए, आईबी, ईडी की करीब एक दर्जन जांच टीम काम में लगी हुई हैं.

सूचना के मुताबिक इस क्रम में जिन चुनिंदा सौ भाषणों को खंगाला गया है, वे न सिर्फ भड़काऊ हैं बल्कि बेहद आपत्तिजनक भी हैं, कई भाषण आतंकवाद को समर्थन देने वाले और विवादास्पद पाए गए हैं, जिसके बाद केंद्र सरकार इस पर कार्यवाही कर ज़ाकिर नाईक पर रोक लगने की रे कायम कर रही हैं.

उल्लेखनीय है कि नाईक के पीस टीवी को प्रसारण और डाउनलिंक की इजाजत सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने नहीं दी थी, इसके बावजूद पीस टीवी का प्रसारण कई देशों में होता रहा.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें