सीरिया के इस फोटोग्राफर को आप दिल से सैल्यूट करेंगे. अब्द अल्कादेर हबक नामक इस फोटोग्राफर ने धमाके के समय तस्वीर लेने के बजाय घायल बच्चे की जान बचाना जरूरी समझा.

दरअसल ये धमाका सीरिया में बस काफिले पर हुआ था जिसमें 68 बच्चों समेत कम से कम 126 लोगों की मौत हो गई थी. उस दौरान वे हबक ने CNN को बताया कि यह दृश्य बेहद भयानक था…. विशेषकर बच्चों को सामने मरते और रोते हुए देखना.

और पढ़े -   देश के 800 शहरों में निकाला गया अमन मार्च, मीडिया से खबर गायब

उन्होंने आगे बताया कि इसलिए मैंने अपने सहयोगियों के साथ निर्णय लिया कि हम अपने कैमरे को एक तरफ रखेंगे और घायल लोगों को बचाएंगे.”

अल्कादेर ने बताया कि विस्फोट के बाद, उन्होंने घायल लोगों की मदद करना शुरू कर दिया. उन्होंने मृत शरीरों में एक लड़का पाया जो अभी तक साँस ले रहा था. उन्होंने सीएनएन को कहा, “यह बच्चा दृढ़ता से मेरा हाथ पकड़ रहा था और मुझे देख रहा था.’

और पढ़े -   देश के 800 शहरों में निकाला गया अमन मार्च, मीडिया से खबर गायब

अल्कादेर ने उस बच्चें को उठाया और एम्बुलेंस की और भागे. उसको एम्बुलेंस में छोड़कर आने के बाद उन्होंने फिर से मदद करना शुरू कर दिया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE