Screenshot_3

शिक्षा जो हर व्यक्ति के अंदर सलाहियत पैदा करती है, उसको ज़िन्दगी व्यतीत करने का सलीका सिखाती है. इसीलिए हमें न केवल अच्छी नौकरी पाने के लिए शिक्षा हासिल करनी चाहिए बल्कि एक अच्छा इंसान बन्ने के लिए भी हमको शिक्षा का सहारा लेना चाहिए.

बचपन की बात करे जिस वक़्त ज़माना इतना टेक्निकल नहीं हुआ करता था.लोग पढ़ने के लिए सर पर किताब रखकर नदियों और झीलों जैसे कठिन रास्तो को पार् किया करते थे.चिराग में बैठ कर पढाई किया करते थे.

आज भी अगर देखे तो भारत कुछ गावो में अभी भी ऐसा देखने को मिलेगा के जहां बच्चे पढाई करने के लिए नदी और झील जैसे मुश्किल रास्तों से गुजरते हैं.

शिक्षा हासिल करने का ऐसा ही जज़्बा चीन के एक गावो में देखने को मिला. दक्षिणी-पश्चिमी चीन की ये तस्वीरें कम चौंकाने वाली हैं. जहां बच्चों को खतरनाक और दुर्गम रास्तों से होकर स्कूल जाना पड़ता है।

चीन के गांव अटुलेर में बच्चों को कंधे पर बैग लादकर 800 मीटर खड़ी चट्टानों पर चढ़ाई करनी होती है. हालांकि इसके लिए एक सीढ़ी बनी हुई है, लेकिन जोखिम पूरा है. थोड़ी सी चूक से मासूम मौत के मुंह में जा सकते हैं. यह गौर तलब करने वाली बात है की तमाम खतरों के बावजूद पढ़ाई के प्रति बच्चों की लगन सराहनीय है.

फोटोग्राफर चेन ने इन बच्चों का फोटो लेने के बाद बताया कि इन बच्चों की उम्र 6 से 15 साल के बीच है. मैं इन नज़ारो को देखकर हैरान रह गया मुझे उम्मीद है कि मेरी तस्वीरों से गांव की तस्वीर जरूर बदलेगी. चट्टानों से चढ़कर स्कूल जाते इन बच्चों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है.

साथ ही गांव में 72 सदस्यों वाले समुदाय के अपी जिति ने मीडिया को बताया कि फिसलन होने के कारण चट्टान पर चढ़ाई चढ़ते वक्त सात-आठ लोगों की जान जा चुकी है, जबकि कई लोग जख्मी हो गए।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE