नई दिल्ली – अगर आप ने कभी दिल्ली के स्थित जामिया नगर का दौरा की है तो आप जानते होंगे वहां किस कदर गन्दगी ने अपने पाँव पसार रखे है, जहाँ एक तरफ इलाके में नगर निगम के सफाई कर्मचारी बेहद लापरवाह है तथा जामिया के स्थनीय नेताओं को साफ़ सफाई के अलावा अन्य मुद्दे समझ में आते है,

ऐसी स्थिति में अपने परिवार और बच्चो को अपनी आँखों के सामने बीमार होते देख खुद मुस्लिम महिलाओ ने ज़िम्मा संभाला और झाड़ू लेकर निकल पड़ी सड़कों की सफाई करने के लिए.

और पढ़े -   देश के 800 शहरों में निकाला गया अमन मार्च, मीडिया से खबर गायब

जामिया नगर के गफ्फार मंजिल में गन्दगी से परेशांन महिलाओं ने अब खुद ही सफाई का मोर्चा संभाल लिया है । इस इलाके में नगर निगम के सफाई कर्मचारी की लापरवाही ऐसी है जो दिल्ली नगर निगम के दावों की पोल खोल रही है

इन महिलाओं ने गफ्फार मंजिल वीमेन वेलफेयर एसोसिएशन का गठन किया जिसे स्थानीय पार्षद इशरत जहां का पूरा सहयोग मिल रहा है।

और पढ़े -   गोरखपुर हादसा- डॉ कफील अहमद ने सिखाया असल 'इंसानियत' का मतलब

तहरयमा अहमद, तसमयन जमाल और तरनम अब्दुल्ला ने बताया कि क्षेत्र की महिलाओं को अभी गंदगी के सामने मूकदर्शक बनकर नहीं रह सकतीं। इससे लोगों के स्वास्थ्य खराब हो रही थी।

वही महिलाओ की इस सफाई पहल को कई मर्द गलत बता रहे है इन लोगो का कहना है ये काम नगर निगम का है ,निगम के सफाई कर्मचारियों की लापरवाही ने इन महिलाओ को बाहर निकलने पर मजबूर कर दिया है ।

और पढ़े -   न्यूज़ एंकर बोली "बच्चों की मौत का मुद्दा ना उठायें, वन्देमातरम पर बहस करें"

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE