रमजान का पाक महीना चल रहा है. इसमें सभी मुस्लिम धर्म रोजे रखते हैं. आम तौर पर हर देश में सूरज उगने से पहले रोज़ा शुरू होता है और सूरज डूबने के साथ ख़त्म होता है. लेकिन दुनिया में कुछ देश ऐसे भी हैं जहाँ सूरज नहीं डूबता. तो वहां के लोग आखिर रोज़े रखते कैसे हैं. आइये जानते हैं.

और पढ़े -   देश के 800 शहरों में निकाला गया अमन मार्च, मीडिया से खबर गायब

दरअसल आर्कटिक महाद्वीप में रहने वाले मुसलमानों के लिए रमजान के पवित्र दिनों में रोजे रखना सबसे बड़ी चुनौती है. वजह यह कि यहां सूरज की रौशनी लगभग पूरे 24 घंटे दिखाई देती है. यानी यहां सूरज नहीं डूबता. उत्तरी फिनलैंड में जहां सूरज सिर्फ 55 मिनट के लिए ही डूबता है, वहीं स्वीडन और आसपास के देशों में गर्मी के महीने में कोई सूरज डूबता ही नहीं है. यानि इन जगहों पर हर वक़्त दिन ही रहता है.

और पढ़े -   न्यूज़ एंकर बोली "बच्चों की मौत का मुद्दा ना उठायें, वन्देमातरम पर बहस करें"

ऐसे ही इलाके में रहने वाले एक शख्स ने बताया कि यहां रोजा सुबह 1:35 पर शुरू होता है और शाम को 12:48 पर खत्म हो जाता है. यानी यहां रहने वाला हर मुस्लिम 23 घंटे 13 मिनट का रोजा रखता है. ये वो देश है जहां 22 फीसद मुस्लिम आबादी है यानी 1.6 अरब लोगों इन देशों में रहते हैं. रमजान के महीने में ब्रिटेन में रहने वाले लोग एक दिन में 16 और 19 घंटे का रोजा रखते हैं.

और पढ़े -   गोरखपुर हादसा- डॉ कफील अहमद ने सिखाया असल 'इंसानियत' का मतलब

ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए क्लिक करें Hindi News


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE