shamshad

फतेहपुर जिले की शमशाद बेगम ने पुणे की रहने वाली एक हिंदू महिला को अपनी किडनी देकर उसे एक जिंदगी देने का फैसला किया है. 

शमशाद बेगम कुछ दिन पहले पुणे में रहने वाली अपनी बहन जुनैदा खातून से मिलने गई थी. इस दौरान वे अस्पताल में भर्ती जुनैदा की सहेली आरती को देखने पहुंची. जुनैदा खातून की सहेली आरती एयरइंडिया में नौकरी करती है. आरती की दोनों किडनियां खराब हो चुकी हैं जिसकी वजह से वह जिंदगी और मौत से जूझ रही है.

और पढ़े -   न्यूज़ एंकर बोली "बच्चों की मौत का मुद्दा ना उठायें, वन्देमातरम पर बहस करें"

आरती के इस दर्द को शमशाद बेगम से देखा नहीं गया. शमशाद बेगम ने अस्पताल में ही आरती को नया जीवन देने के लिए अपनी किडनी दान करने का फैसला कर लिया. शमशाद बेगम के इस फैसले में उसके पूरे परिवार ने भी उसका पूरा साथ दिया.

डोनर शमशाद बेगम (40) और रेसिपेंट आरती (38) ने सभी मेडिकल एग्जामिनेशन को पूरा कर शमशाद ने जिला स्वास्थ विभाग में किडनी देने के लिए सभी दस्तावेज भी जमा कर दिए हैं. अब केवल राज्य सरकार की ऑर्गन ट्रांसप्लांटेशन कमेटी की इजाजत का इन्तजार किया जा रहा हैं.

और पढ़े -   देश के 800 शहरों में निकाला गया अमन मार्च, मीडिया से खबर गायब

शमशाद ने अपने इस फैसले को लेकर कहा, “मैं किडनी देने के लिए तैयार हूं. किसी भी इन्सान का धर्म इंसानियत होना चाहिए. यह एक इन्सान के लिए महज छोटा सा बलिदान है.”


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE