नास्त्रेदमस को दुलत्ती मारकर पछाड़ते हुए महान बॉलीवुड ने 1950 में ही एक गाना बनाकर ऐसी भविष्यवाणी कर दी थी जिसमे राजनीती के दो योद्धा के एक दुसरे को पछाड़ने की बात कही गयी है. गाना गाने वाले मुकेश,शमशाद बेगम   और कंपोजर मदन मोहन खुद टाइम मशीन में बैठकर सन 2016 में आए थे और यहाँ की राजनीती के दांव पेंच सीखकर वापस 1950 में जाकर ये गाना गाया या फिर यहाँ से किसी प्रदेश की सरकार ने स्पेशल वाई-फाई के ज़रिये ये गाना 1950 में भिजवाया …. अल्लाह जाने.

अगर कोई सड़क पर ये गाते हुए निकले बीए पास करके मोहे डिग्री दिखाओ जी …. तो उसे कतई फ्री वाई-फाई उपभोक्ता ना समझे हो सकता है वो बेचारा मुकेश का बहुत बड़ा झबरा फैन हो …ओफ्फो भैया … मुकेश अम्बानी नही ….मुकेश बॉलीवुड गायक .. हर जगह राजनीती .. हद  है  कभी तो अच्छे मूड में भी रह लिया करो …चचा.

तो बात यह है की सन 1950 में एक पिच्चर आई थी नाम था ऑंखें कंपोज़ किया था मदन मोहन ने गाना लिखा था भरत व्यास ने गाया था शमशाद बेगम ओर मुकेश ने .. उस गाने में भारत के डिग्री विवाद की भविष्यवाणी कर दी गयी थी लेकिन देसी जनता तो ठहरी भोली उसे उस ज़माने में क्या समझ आता इसीलिए नायक नायिका के रूठने मनाने की सीन डाल दिया भैया …

लो पहले गाने के बोल पढ़ लो .. मज़ा ना आए तो पैसे वापस

हमसे नैना मिलाना बीए पास करके
हमसे प्रीत लगाना बीए पास करके
हो बीए पास करके जी बीए पास करके
बीए पास करके मोहे डिग्री दिखाओ जी मोहे डिग्री दिखाओ जी

ये है बीए की डिग्री गोरी गुस्से में ना आओ
हो गोरी गुस्से में ना आओ

अपनी चारसौ बीसी किसी और पे चलाओ
जाओ जाओ ये है झूठी डिग्री
इसे कूड़े में फेंक आओ

जाए भाड़ में ऐसा प्यार
तेरे ये नखरे है बेकार

हमको गुस्सा ना दिलाना बकवास करके
हमसे प्रीत लगाना बीए पास करके

यकीन ना आ रा ..?? अब लगे हाथ विडियो भी देख ही डालो

नोट –  दर्शकों के मनोरंजन के लिए लिखा गया है. सभी पात्र काल्पनिक है, कहीं कुछ मिलता है तो वो मात्र एक संयोग होगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE