img-20160911-wa0022

भारतीय प्रान्त मध्य प्रदेश का छोटा सा शहर जावरा जिसको हुसैन की नगरी के नाम से जाना जाता है. जावरा शहर को यह नाम इसलिए दिया गया हैं क्योकि यहाँ पर हुसैन (पैग़म्बरे इस्लाम मोहम्मद के नवासे) टेकरी है. दुनिया के हर हिस्से से ज़ायरीन बड़ी तादाद में लोग इसको देखने आते हैं. जावरा में गंगा जमनी तहज़ीब देखने को मिलती है जहाँ नदी के एक किनारे पर भगवान शंकर का मंदिर मौजूद है तो दूसरे किनारे पर मस्जिद है.

आज कल इस शहर का नाम चर्चा में हैं जिसका कारण लोगो को नशे के सम्बन्ध में उजागर करने वाली फिल्म हैं. फिल्म का प्रमो सामने आते ही इस शहर का अनाम पूरे भारत में चर्चित हो गया. इस फिल्म का एक्टिंग व डायरेक्शन अज़मत मिर्ज़ा ने किया हैं जोकि इससे पहले भी कई बड़ी फिल्मो और सीरियल में एक्टिंग व डायरेक्शन कर चुके हैं.

नशे को ही फिल्म का सब्जेक्ट बनाने के पीछे रेडक्रॉस सोसाइटी के चेरमेन प्रकाश बारोड़, फिल्म गर्द के अज़मत मिर्ज़ा गुलशन इम्तियाज़,का मक़सद समाज को इस बुराई से उजागर करना है.

‘नशा मुक्त भारत’ के मक़सद से बनायीं गयी गर्द फिल्म की शूटिंग इंदौर के जाने माने कैमरा मेन अब्दुल वसीम खान ने की हे जिनकी पैदाइशी जावरा की ही है. फिल्म का प्रमोशान कुतुबुद्दीन सैफ के शबनम टाकीज़ में हुआ. इस फिल्म के प्रोमो रिलीज़ पर जावरा विधायक डॉक्टर राजेंद्र पांडे मुख्य अतिथि रहे. डॉक्टर पाण्डे ने प्रोमो देखने के बाद ‘गर्द’ की पूरी टीम मुबारकबाद दी.

इस मौके पर उपस्थित रहे एस.डी.एम अनूप कुमार सिह (IAS) ने भी जावरा के कलाकारों की तारीफ करते हुए कहा कि “मुझे बहुत खुशी है की जावरा में ऐसे सच्चे हीरो मौजूद हैं जो समाज को एक नई दिशा देना चाहते हैं में हमेशा ऐसी कोशिश करने वालों के लिए हर वक़्त मौजूद हूँ.”

रेडक्रास सोसायटी जावरा के चेयरमेन प्रकाश बारोड ने बताया कि सवा घंटे कि इस फिल्म में नशे की लत के कारण होने वाले प्रभाव को बताया गया है. साथ ही इस फिल्म में यह प्रयास भी किया गया है कि नशे के इस कारोबार से कैसे लोगों को बचाया जाए.

इंदौर कोहराम एक्सप्रेस न्यूज़ पेपर के प्रधान संपादक कासिम बरकाती को भी प्रकाश बारोड़ जी की ख़ास दावत पर गर्द के प्रमोशन के लिए विशेष अतिथि के रूप में बुलाया गया संपादक महोदय ने कहा कि जावरा जैसे छोटे शहर के कलाकारों द्वारा यह प्रस्तुति निश्चित ही सराहनीय है. उन्होंने सुझाव दिया कि कोई भी व्यक्ति अपने परिवार या समाज में बच्चों के सामने नशे का सेवन नहीं करें। क्योंकि बच्चे बड़ों से ही सिख लेते है.

Web-Title: Film on drugs free in Jawra city

Key-Words: Film, Madhya Pradesh, Drugs


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें