13315292_10154209639488609_7623365555492525791_n

सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, व्हाट्सप्प, ट्विटर आदि पर झूटी खबरों का अम्बार लगा रहता हैं, और लोग उसको पढ़े बिना बस शेयर और लाइक करते जाते है. ऐसे ही कुछ मामले सामने आए हैं. कुछ दिन पहले फेसबुक पर मोदी जी के लवर ने एक “I support Narendra Modi ” नाम के पेज पर एक पोस्ट किया जो सुनने में और पढ़ने में बहुत अच्छ लगता है परन्तु उसका सच्चाई से दूर-दूर तक कोई लेना देना नहीं हैं.

उस फेसबुक यूजर की गोपनीयता बनाए रखते हुए हम आपको बताते है की उसने उस फेसबुक पेज पर किया पोस्ट किया. उसने लिखा एक कहानी मनीष मल्होत्रा की तरफ से, मेरे फैमिली की एक बहुत ही करीबी दोस्त जोकि एक अवकाश प्राप्त आईएस अफसर, पीएमओ ऑफिस के एक खास मेंबर्स में से एक है  , जिनको हम Mr A के नाम से बुलाएंगे.

“Mr A फरवरी 2014 में अवकाश प्राप्त कर चुके है, और अपनी लाइफ में खुश है.उन्होमे अपनी पूरी ज़िन्दगी कांग्रेस गवर्नमेंट के कार्यकाल में बिता डाली. लेकिन मई 2014 में जब मोदी जी ने देश की सत्ता संभाली तो एक बार फिर से इनको याद किया गया. इन्होने बताया की मैं पिछले 44 साल से काम कर रहा हूँ लेकिन ऐसे गति और ऊर्जा से मैंने कभी किसी को काम करते नहीं देखा, इसलिए मैं अभी और काम करना चाहता हूँ, और इसीलिए मैं अपने करियर के 1 साल और मोदी जी के साथ काम करके बिताना चाहता हूँ. वह एक दिन में एवरेज 18 20 घंटे काम करते देखा हैं. मैंने इससे पहले किसी को इतना काम करते नहीं देखा मोदी जी दिनभर पुरी ऊर्जा के साथ काम करते हैं, कभी- कभी तो दो दिन तक के सो तक नहीं पाते”.

Mr A जोकि पिछले 44 साल से काम कर रहे तो इस हिसाब से इनकी उम्र 62 साल होना चाहिए कियोकि हमारी टीम ने सर्च किया है तो एक लिंक के मुताबिक  मुनासिब तौर पर किसी भी आईएस/पीसीएस की अवकाश प्राप्त करने की आयु 60 वर्ष होती है जिसके हिसाब से इस वक़्त Mr A की आयु 62 वर्ष होगी.फेसबुक पोस्ट के मुताबिक Mr A 44 साल की नौकरी कर चुके है उस हिसाब से आईएस के लिए उनकआ अपॉइंटमेंट 18 साल की उम्र में हुआ था. इसके बाद हमने गूगल के थ्रू चेक किया जिसमे यह पता चलता है की किसी भी आईएस का अपॉइंटमेंट 22 साल से काम आयु में नहीं हुआ.

जिसका लिंक नीचे दिया गया है.

https://www.quora.com/Who-were-the-youngest-IAS-ऑफिसर्स

इसके साथ साथ हमने पीएमओ ऑफिस में डप्लोएड IAS-ऑफिसर्स की लिस्ट निकाली जिसमे पता चलता हैं की इस वक़्त सिर्फ तीन अवकाश प्राप्त आईएस/पीसीएस कार्य कर रहे है. जिनके नाम नृपेंद्र मिश्रा, अजित डोवाल और पीके मिश्रा हैं. इसका भी लिंक नीचे दिया गया है

List of Officers

आखिरकार पूरा निष्कर्ष निकालने के बाद यह पता चलता हैं की यह फेसबुक पोस्ट एक फिक्शन(झूटी) कहानी हैं. जिसका सत्य से कोई वास्ता नहीं हैं. यह पोस्ट सिर्फ लोगो की भक्ति देखने के लिए की गयी थी. यह कोई एक मामला नहीं जहाँ मोदी जी की फेक खबरों को आम किया गया है.

ऐसा ही कुछ उन दिनों देखने को आया जब माहौल में यह बात पूरी तरह फ़ैल चुकी थी क मोदी जी एक चाय बेचने वाले थे और आज द्देश के सबसे ताकतवर इंसान बन गए हैं.  जिसमे एक बहुत पुराणी फोटो में मोदी जी झाड़ू लगते हुए नज़र आ रहे है, लेकिन जब बाद में इसका खुलासा हुआ, तो आरटीआई ने बताया के की यह फोटो बिलकुल झूटी है और फोटोेडिटिंग की मदद से बनायीं गयी है.

Web Title- Fake Accompaniment of Modi on Social media

Key Words- Modi, Mr.A, Fake news, Social media, Facebook


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें