patanjali-atta-noodles-1-564bf57055b26_exlst

सहारनपुर. बाबा रामदेव के पतंजलि प्रोडक्ट्स के खिलाफ तमिलनाडु तौहीद जमात (TNTJ) के फतवे का दारुल उलूम देवबंद के उलेमाओं ने भी समर्थन किया है। दैनिक समाचार पत्र (भास्कर) से बातचीत में देवबंदी उलेमाओं ने कहा,”इस्लाम में मल-मूत्र को नापाक और नाजायज बताया गया है। इसलिए अगर किसी चीज में मल या मूत्र मिला हो तो उसका इस्तेमाल मुसलमानों के लिए पूरी तरह से नाजायज होगा।”

दारुल उलूम वक्फ के वरिष्ठ मुफ्ती मोहम्मद आरिफ कासमी ने कहा, ”इस्लाम धर्म में मल-मूत्र चाहे वह किसी जानवर का हो या फिर इंसान का पूरी तरह नाजायज और नापाक बताया गया है। इसलिए ऐसी किसी भी दवा या अन्य चीज का प्रयोग करना, जिसमें मूत्र मिला हो शरियत के अनुसार सरासर हराम है। रसूले पाक मोहम्मद साहब का आदेश है कि सिर्फ हराम चीज ही नहीं बल्कि जिन चीजों के हराम होने का शक भी हो, मुसलमानों को ऐसी चीजों से बचना चाहिए।”

क्या कहते हैं और उलेमा-

-कुल हिंद मुफ्तियान के अध्यक्ष मुफ्ती अहसान कासमी ने कहा,” ऐसा नहीं है कि मुसलमान सिर्फ गोमूत्र का इस्तेमाल नहीं कर सकते बल्कि किसी भी जानवर या इंसान के मूत्र का प्रयोग हराम है।”

-तंजीम अब्ना-ए-दारुल उलूम के अध्यक्ष मुफ्ती यादे इलाही कासमी ने कहा, ”गंदगी यदि कपड़ों पर भी लग जाए तो उसे अच्छी तरह से धोकर पाक कर लेने का हुक्म है।”

-अल कुरआन फाउंडेशन के अध्यक्ष मौलाना नदीमुल वाजदी ने कहा, ”पंतजली हो या फिर कोई ओर उत्पादक यदि उसके प्रोडक्ट में गोमूत्र मिलाया जा रहा है तो उससे मुसलमानों को बचना चाहिए। क्योंकि हराम खाने से मुसलमान का ईमान खतरे में पड़ जाता है।”

किसने जारी किया फतवा और इस पर पतंजलि ने क्या कहा…
– तमिलनाडु तौहीद जमात (TNTJ) ने पतंजलि के कॉस्मेटिक्स, मेडिसिन और कई फूड प्रोडक्ट्स के खिलाफ फतवा जारी किया है।
– TNTJ ने एक प्रेस रिलीज जारी कर कहा है कि सभी मुस्लिमों को पतंजलि प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से बचना चाहिए। सही जानकारी नहीं होने के चलते कई लोग इनका यूज कर रहे हैं।

तंजलि ने क्या दी सफाई?
– गोमूत्र की मिलावट पर फतवा जारी करने वाले मुस्लिम ऑर्गेनाइजेशन ने रामदेव के करीबी आचार्य बालकृष्ण ने अज्ञानी बताया है।
– बुधवार को प्रेस कॉन्फेंस में उन्होंने कहा कि पतंजलि ने कभी प्रोडक्ट्स में गोमूत्र मिले होने की जानकारी नहीं छिपाई है।
– कंपनी फिलहाल 800 प्रोडक्ट बनाती है, जिसमें सिर्फ पांच को बनाने में गोमूत्र का इस्तेमाल किया जाता है।
पतंजलि ने कई एफएमसीजी में कंपनियों को पछाड़ा
– 2015 में करीब 2000 करोड़ रुपए की कमाई करने वाली पतंजलि FMCG सेक्टर में बड़ी कंपनियों को टक्कर देने के लिए तैयार है। इस साल कंपनी का रेवेन्यू 67 पर्सेंट बढ़ा है।
– पतंजलि ने कमाई के मामले में कई लिस्टेड एफएमसीजी कंपनियों, जैसे इमामी, प्रॉक्टर एंड गैम्बल और ज्योति लैब्स को पीछे छोड़ दिया है।
– पतंजलि आयुर्वेद ने अगले कुछ सालों में 5000 से 10000 करोड़ रुपए कमाई का टारगेट रखा है।
– देश में पतंजलि के करीब 4000 स्टोर हैं।
क्या-क्या बनाता है पतंजलि आयुर्वेद ?
– पतंजलि आयुर्वेद साबुन, शैम्पू, पेस्ट, मंजन, स्किन क्रीम, बिस्किट, घी, जूस, शहद, आटा, कुकिंग ऑयल, मसाला, शुगर, आटा नूडल्स जैसे 800 प्रोडक्ट बनाता है।

Web Title – Patanjali Products are HARAM for Muslims -Fatwa against Baba Ramdev’s Patanjali

Keywords –   Patanjali Products, HARAM,Muslims, Fatwa, Baba Ramdev’s Patanjali


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें