कोलकाता.हर्षा भोगले IPL-2016 में कमेंट्री नहीं करेंगे। उन्हें आईपीएल के कमेंटेटर पैनल से टर्मिनेट कर दिया गया है। हालांकि, इसकी जानकारी उन्हें एक हफ्ते पहले ही दी गई थी। इस पूरे घटनाक्रम को भारत-बांग्लादेश मैच की कमेंट्री से भी जोड़कर देखा जा रहा है। अमिताभ ने ट्वीट कर कहा था कि कमेंटेटर्स को इंडियन प्लेयर्स की भी तारीफ करनी चाहिए। नागपुर में WT-20 मैच के दौरान एक ऑफिशियल से हुई कहा-सुनी…

dc-Cover-d306apbpm31lnioav0flai39f2-20160326122037.Medi

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, भोगले को क्यों बाहर किया गया, इसके बारे में बोलने के लिए कोई सीधे तौर पर तैयार नहीं है।बीसीसीआई के अनुराग ठाकुर और राजीव शुक्ला जैसे बड़े अफसर भी इस बारे में कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। हर्षा भोगले को वापस लाने के लिए सोशल मीडिया खासा एक्टिव है। ट्विटर पर #BringBackHarsha ट्रेन्ड कर रहा है। वहीं, आईपीएल-9 के प्रमोशनल वीडियोज में भोगले दिखाई दिए थे। यही नहीं, 51 दिन चलने वाले आईपीएल के कमेंट्री रोस्टर में भी उनका नाम था। भोगले आईपीएल की 2008 में शुरुआत से ही जुड़े थे। मैच के वेन्यू पर आने-जाने के लिए उनकी एयर टिकटें भी बुक थीं। बताया जा रहा है कि नागपुर में टी20 वर्ल्ड कप के पहले मैच के दौरान भोगले की विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन के ऑफिशियल से बहस हुई थी। बीसीसीआई एक ऑफिशियल के मुताबिक, कमेंटेटर्स पैनल बनाने के लिए हमने सोशल मीडिया पर लोगों की राय मांगी थी। प्लेयर्स की भी रिएक्शन ली गई थीं। भोगले के मुताबिक, किसी ने मुझसे कुछ नहीं कहा। मुझे फॉर्मली भी नहीं बताया गया। बस इतना कहा गया कि ये बीसीसीआई मैनेजमेंट का फैसला है।’

WT-20 के दौरान अमिताभ ने ट्विटर पर क्या लिखा था?

टी20 वर्ल्ड कप में भारत-बांग्लादेश मैच के दौरान कई कमेंटेटर ट्विटर पर भी एक्टिव थे। भारत की लास्ट बॉल पर जीत के बाद सोशल मीडिया पर धोनी की खिंचाई की गई थी। इस पर अमिताभ ने ट्वीट किया, “मैं सबका बहुत सम्मान करता हूं। हमारे कमेंटेटर्स को इंडियन प्लेयर्स की भी तारीफ करनी चाहिए, जैसे वे ज्यादातर दूसरे प्लेयर्स की करते हैं।” अमिताभ से जब उस कमेंटेटर के बारे में पूछा गया तो वे बोले- “मैं सुनील गावसकर या संजय मांजरेकर की बात नहीं कर रहा।” इस पर भोगले ने कहा, “कई लोगों ने माना कि बच्चन का इशारा मेरी तरफ था। अगर ये सच भी था, तो इसके बारे में मुझे कुछ नहीं पता। जहां तक मुझे याद आता है कि एक टेलिकास्ट के दौरान कमेंटेटर के रोल को लेकर कुछ बात हुई थी। मैं उसे क्लैरिफाई करने की कोशिश करूंगा।”

क्या कहते हैं भोगले?

भोगले ने फेसबुक पर लिखा, “स्टार स्पोर्ट्स 1 पूरी दुनिया में ब्रॉडकास्ट करता है। इसकी कमेंट्री पूरी दुनिया में लोग सुनते हैं।” “क्रिकेट को लेकर बांग्लादेश, पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, साउथ अफ्रीका, अमेरिका सभी जगह दीवानगी है।” “इसके लिए कमेंटेटर को बेहद ऑब्जेक्टिव और बैलेंस्ड रहने की जरूरत होती है।” “अगर हम इंडिया सेंट्रिक कमेंट करेंगे तो ये दूसरी टीमों और उनके व्यूअर के साथ अनफेयर होगा।” “दूसरे देश के लोगों को भी पैशनेट होने का उतना ही हक है, जितना इंडियन सपोर्टर्स को।”

इंडियन प्लेयर्स ने भी किया था क्रिटिसाइज

भारत-बांग्लादेश मैच में कमेंट्री को लेकर टीम इंडिया ने भी क्रिटिसाइज किया था। धोनी ने इस पूरे विवाद में रीट्वीट किया था- “मैं कुछ नहीं कहूंगा।”
इस पर भोगले ने कुछ भी कमेंट करने से मना कर दिया था। नागपुर मैच के बारे में भोगले ने बताया, “यहां पर हिंदी-अंग्रेजी कमेंट्री बॉक्स के बीच में बीसीसीआई प्रेसिडेंट शशांक मनोहर का कमरा है। वीआईपी बॉक्स के बंद होते ही बाइलिन्गुअल (दुभाषी) कमेंटेटर को फ्लाइट पकड़ने के लिए भागना पड़ता है।” “हम लोग बहुत टाइट शेड्यूल में काम करते हैं। हमें दुनिया भर में घूमना पड़ता है।” “नागपुर की घटना में किसी ने मेरी कहानी जानने की कोशिश नहीं की।”

क्या कहते हैं बीसीसीआई ऑफिशियल्स?
“नागपुर में भोगले की एक अफसर से कहा-सुनी हो गई थी।” “वे दरवाजा खुलवाना चाहते थे। ये बातें शशांक मनोहर तक पहुंच गईं।” “मनोहर खुद भी नागपुर से ही है। हो सकता है कि यही बात उनके जाने की वजह रही हो।”

देखे शारजाह मैच के वो अंतिम क्षण जब विदेशी कमेन्ट्रीटेटर सचिन तेंदुलकर के आगे नतमस्तक हो गया और हर गेंद पर तारीफ की 


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें