msid-50678354,width-300,resizemode-4,asi

सूरत – घूस लेते पकड़े जाने के बाद एक पुलिस वाले ने बिल्कुल फिल्मी अंदाज में एसीबी टीम को चकमा देकर भागने की कोशिश की लेकिन नाकाम रहा। दमस पुलिस स्टेशन के असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर को ऐंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने 2200 रुपए की घूस लेते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया था। एसीबी टीम के हत्थे चढ़ने के बाद के बाद एएसआई ने एसीबी टीम से टॉयलेट जाने की अनुमति मांगी और मौका मिलते ही वह वहां से भाग निकला। भागते हुए पुलिस इंस्पेक्टर गटर में गिर गया और एसीबी टीम ने उसे फिर से अपनी गिरफ्त में ले लिया।

साबरकांठा एसीबी पुलिस स्टेशन के एस पी कहर के नेतृत्व में टीम ने एएसआई उमराव मराठा (54) को घूस लेते पकड़ा था। उमराव मराठा के खिलाफ राजू रबारी ने शिकायत की थी, जिसके बाद एसीबी टीम ने उन्हें पकड़ने के लिए जाल बिछाया। रबारी का मोटरसायकल रजिस्ट्रेशन बुकलेट पुलिस ने जब्त कर लिया था और क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय द्वारा चालान भी कट चुका था। रबारी एएसआई मराठा से मिला और उससे चालान रद्द करने और बुकलेट जारी करने के लिए अनुरोध किया। इसके लिए पुलिस इंस्पेक्टर ने रबारी से 2200 रुपए की घूस मांगी।

रबारी ने एसीबी टीम से संपर्क किया और उसकी शिकायत की। गुरुवार को योजना के मुताबिक मराठा ने रबारी को मगदल्ला पोर्ट के पास के एक होटेल में बुलाया। एसीबी टीम ने ऑडियो और विडियो का इस्तेमाल करके इंस्पेक्टर के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य जुटा लिए और उसे घूस लेते रंगे हाथ पकड़ लिया।

मराठा ने एसीबी टीम से कहा कि वह टॉयलेट जाना चाहता है और जब उसे अनुमति मिल गई तो उसने वहां से भाग निकलने की कोशिश की। हालांकि भागते हुए वह गटर में गिर गया और एसीबी टीम ने पुलिस इंस्पेक्टर को पकड़ लिया।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें