plain_white_background_211387

नई दिल्ली, 15 मई। इंडियन मीडिया वेलफ़ैयर एसोसिएशन यानी ‘इमवा’ के प्रतिष्ठित राष्ट्रीय मीडिया पुरस्कारों से आज देश के प्रख्यात पत्रकारों को सम्मानित किया गया। इमवा के इस अवॉर्ड में विदेशी मामलों के जानकार और विदेशी मामलात की बेहतरीन कवरेज के लिए देश के प्रख्यात पत्रकार अख़लाक़ अहमद उस्मानी को यह सम्मान दिया गया।

इमवा के अध्यक्ष राजीव निशाना ने बताया कि इमवा हर वर्ष देश के इस प्रतिष्ठित पुरस्कारों के लिए प्रख्यात पत्रकारों का चयन करती है जिसमें दस विभिन्न श्रेणियों में बेहतर प्रदर्शन करने वालों पत्रकारों को यह सम्मान दिया जाता है। इमवा के पाँचवें संस्करण के इस सम्मान में विदेशी मामलात में पत्रकारिता में बेहतरीन कवरेज के लिए अख़लाक़ अहमद उस्मानी को सम्मानित किया गया। निशाना ने कहाकि अख़लाक़ उस्मानी यूँ तो पत्रकारिता में प्रिंट, ब्रॉडकास्ट और वेबसाइट में बहुभाषी पत्रकारिता के लिए जाने जाते हैं लेकिन इमवा ने उन्हें सीरिया के युद्ध क्षेत्र से सबसे पहले रिपोर्टिंग करने वाले भारतीय पत्रकार के रूप में उनकी कवरेज के लिए यह सम्मान दिया है। इमवा अध्यक्ष ने कहाकि उस्मानी युवा पत्रकार हैं और कई नवोदित पत्रकारों के लिए आदर्श हैं क्योंकि वह हिन्दी, अंग्रेज़ी और उर्दू पत्रकारिता में एक समान दक्षता रखते हैं और उनके तीनों भाषाओं में विदेशी मामलात पर शानदार कॉलम से कई नई और चौंकाने वाली जानकारियाँ मिली हैं। हाल ही के दिनों में सीरिया और इराक़ में उभरे इस्लामिक स्टेट और अलक़ायदा के बारे में उस्मानी ने अलग दृष्टिकोण से तथ्यों को रखा और इस पूरे विवाद को नए एंगल से समझने का मौक़ा मिला। उनके दूरदर्शन न्यूज़ और एनडीटीवी पर विशेष टिप्पणियों से हमेशा युद्ध और आतंकवाद की वैश्विक समस्या को समझने में मदद मिली है।

इमवा अध्यक्ष राजीव निशाना ने इस मौक़े पर अख़लाक़ उस्मानी को प्रशस्ति पत्र और शॉल से सम्मानित किया। आपको बता दें कि उस्मानी दो दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं और भारत के श्रेष्ठ ब्रॉडकास्टर दूरदर्शन, एनडीटीवी, ईटीवी और सहारा समय के लिए विदेशी मामलात पर पत्रकारिता की है। सर्वश्रेष्ठ हिन्दी दैनिक जनसत्ता और राजस्थान पत्रिका, चीन के सर्वश्रेष्ठ अंग्रेज़ी दैनिक द ग्लोबल टाइम, मिस्र के अंग्रेज़ी दैनिक इजिप्ट इंडिपेंडेंट और कज़ाख़स्तान के अंग्रेज़ी दैनिक अस्ताना टाइम्स के लिए लिखते रहे हैं। सर्वश्रेष्ठ उर्दू दैनिक इंक़लाब और सहाफ़त में भी उस्मानी विदेशी मामलात पर कॉलम लिखते हैं। उस्मानी भारत के उन दुर्लभ पत्रकारों में शुमार किए जाते हैं जिन्हें ना सिर्फ़ कई भाषाओं में पत्रकारिता का अनुभव है बल्कि मीडिया के सभी मोड में वह दक्ष हैं। वह प्रिंट, टेलीविज़न, रेडियो, मल्टीमीडिया और वेबसाइट पत्रकारिता में निपुण हैं। उन्होंने अपने जयपुर प्रवास में आकाशवाणी के लिए उर्दू में तबसरा (टिप्पणी) कार्यक्रम भी पेश किए हैं।

अख़लाक़ उस्मानी विदेशी मामलात के अलावा इस्लामिक और मुस्लिम समाज के मामलों के जानकार के रूप में जाने जाते हैं और ईरान की न्यूज़ एजेंसी इरना ने हाल ही में उनका विशेष इंटरव्यू लिया है।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें