yam1

यमन की राजधानी सना में एक जानजे को निशाना बनाकर सऊदी गठबंधन सेनाओं के द्वारा किये गए हवाई हमले के बाद यमन के उलेमाओं ने सऊदी अरब के खिलाफ जिहाद का फतवा जारी किया हैं. साथ ही इस्लामीक देशों से सऊदी अरब के इस हमलें के बारें में अपना दृष्टिकोण स्पष्ट करने की मांग भी की हैं.

सऊदी गठबंधन सेनाओं के द्वारा किये गए हवाई हमले में 140 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है और सैकड़ों घायल हो गए हैं. हालांकि गठबंधन सेना ने इस हमले से इनकार किया है. जिस समय ये हवाई हमला हुआ उस समय हूती विद्रोहियों के गृहमंत्री के पिता का अंतिम संस्कार किया जा रहा था.

और पढ़े -   रोहिंग्या समूह ने कहा – म्यांमार मुस्लिमों के नरसंहार में लगा हुआ

यमन में संयुक्त राष्ट्र के मानवतावादी कार्यों के समन्वयक जेमी मैकगोल्डरिक ने तत्काल जांच का आह्वान करते हुए कहा कि ‘यमन में नागरिकों के खिलाफ इस हिंसा पर तत्काल रोक लगनी चाहिए.’ 2014 में शुरु हुए गृहयुद्ध के बाद से अब तक से 6000 से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं और लगभग 30 लाख लोग विस्थापित हो चुके हैं.

यह लड़ाई राष्ट्रपति अब्दुर्रब मंसूर हादी की सरकार हूती बाग़ियों और पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह की समर्थक सेना में लड़ी जा रही थी लेकिन सऊदी के नेतृत्व वाले गठबंधन ने हूती विद्रोहियों और उनके साथियों को खदेड़ने के लिए मार्च 2015 में हवाई युद्ध छेड़ दिया. जिसके बाद स्थिति और गंभीर हो गई.

और पढ़े -   रियाद में जी-20 बैठक के आयोजन के विरोध में आया फ्रांस

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE