पूर्वी जेरूसलम में स्थित अल-अक्सा मस्जिद में फिलिस्तीनियों को प्रवेश करने से रोकने के इजरायल के फैसले की दुनिया भर में निंदा की जा रही है.

अरब लीग परिषद ने इजरायल के इस कदम को फिलिस्तीनी नागरिकों के इबादत के अधिकार का खुला उल्लंघन और अंतर्राष्ट्रीय कानूनों सहित संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन के खिलाफ करार दिया. साथ ही अंतराष्ट्रीय समुदाय से इस मामले में अपना दायित्व निभाने को कहा.

और पढ़े -   जानिए: 1967 से मस्जिदुल अक़्सा पर होने वाले प्रमुख इस्राईली हमलो की जानकारी

दरअसल, इजरायली सुरक्षाकर्मियों द्वारा तीन फिलिस्तीनी मुसलमानों की अल अक्सा मस्जिद में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इन पर शुक्रवार को इजरायल के दो पुलिसकर्मियों की गोली मारकर हत्या कर देने के आरोप था. इस घटना के बाद इजराइल ने समूचे परिसर में सीसीटीवी, जांच चौकी और मेटल डिटेक्टर लगा दिए.

गौरतलब रहें कि इस्लाम धर्म के तीसरे सबसे पवित्र स्थान को पिछले 50 सालों में पहली बार बंद किया गया. हालांकि रविवार को पवित्र स्थल को दोबारा खोल दिया, लेकिन फिलिस्तीनियों को कड़े सुरक्षा जांच से गुजरना पड़ रहा है.

और पढ़े -   इराक आया मुस्लिम ब्रदरहुड के समर्थन में कतर का भी किया बचाव

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE