विश्व बैंक ने ग़ज़्ज़ा के पुनर्निमाण के लिए अरब देशों से आगे आने का अनुरोध किया है। प्रेस टीवी के अनुसार विश्व बैंक ने अरब देशों से मांग की है कि वे ग़ज़्ज़ा के पुनर्निमाण के बारे में दिये गए अपने वचनों का पालन करें। विश्व बैंक ने सऊदी अरब, क़तर और संयुक्त अरब इमारात सहित फ़ार्स की खाड़ी के तटवर्ती देशों से कहा है कि उन्होंने ग़ज़्ज़ा के पुनर्निमाण के बारे में जो वचन दिये थे उनको वे पूरा करें क्योंकि ग़ज़्ज़ा की स्थिति दिन-प्रतिदिन दयनीय होती जा रही है।

विश्व बैंक के अनुसार सऊदी अरब ने ग़ज़्ज़ा के पुनर्निमाण के लिए 500 मिलयन डालर देने का वचन दिया था किंतु उसने इस राशि का केवल दस प्रतिशत ही दिया है। तुर्की ने 200 मिलयन डालर की सहायता का वचन दिया था किंतु दो वर्षों से अधिक का समय गुज़रने के बावजूद अंकारा ने अबतक केवल 32 प्रतिशत ही दिया है।

उल्लेखनीय है कि ज़ायोनी शासन ने ग़ज़्ज़ा पर 50 दिसवीय पाश्विक आक्रमण में कम से कम 2200 फ़िलिस्तीनियों को शहीद कर दिया। इस आक्रमण में ग़ज़्ज़ा में फ़िलिस्तीनियों के कम से कम एक लाख इक्हत्तर हज़ार घर नष्ट हो गए। वर्तमान समय में ग़ज़्ज़ा में 75 हज़ार फ़िलिस्तीनी बेघर हैं। सन 2014 को मिस्र की राजधानी क़ाहिरा में अन्तर्राष्ट्रीय कांफ़्रेंस का आयोजन हुआ था जिसमें विश्व समुदाय ने ग़ज़्ज़ा के पुनर्निमाण के लिए लगभग 4 अरब डालर देने का वचन दिया था।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें