क़ुरान की प्रति

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अधिकारिक ईरान यात्रा पर वहां के नेताओं को सदियों पुराने धार्मिक ग्रंथो की प्रतियाँ भेंट स्वरूप प्रदान की. नरेंद्र मोदी ने ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनेई को सातवीं सदी के कूफ़ी लिपि में लिखे गए क़ुरान की विशेष रूप से तैयार कराई गई कॉपी भेंट की. ये रामपुर की रज़ा लाइब्रेरी में रखी हुई है और हज़रत अली से संबंधित है.

और पढ़े -   पाकिस्तान की जीत पर एंकर ने मोदी के लिए किया अभद्र भाषा का इस्तेमाल कहा , डूब मरो

रामायन की प्रति

इसके अलावा मोदी ने राष्ट्रपति हसन रूहानी को मिर्ज़ा असदुल्लाह ख़ान ग़ालिब की फ़ारसी रचनाओं के संग्रह की विशेष तौर पर तैयार कराई गई प्रति भेंट की. 1863 में प्रकाशित हुई ग़ालिब की कुलियात-ए-फ़ारसी-ए-ग़ालिब में कुल 11 हज़ार पद हैं.

ग़ालिब की शायरी की प्रति

प्रधानमंत्री की ओर से राष्ट्रपति रूहानी को सुमैर चंद की फ़ारसी में अनुवादित रामायण की कॉपी भी भेंट की गई. ये भी भारतीय संस्कृति मंत्रालय की रामपुर रज़ा लाइब्रेरी में रखी गई है.

और पढ़े -   तुर्की फिलिस्तीन को देगा 10 मिलियन डॉलर की मदद, ताकि ईद पर खुशियों से महरूम न रहे कोई

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE