किरकुक | सोचिये उन लडकियों के साथ क्या गुजर रही होगी जो ISIS के खूंखार आतंकियों के साथ एक कमरे में बंद होगी. उनको हर पल अपनी मौत सामने दिखाई दे रही होगी. वो भगवान् से प्रार्थना कर रही होगी की आतंकियों की नजर उनके ऊपर न पड़े. यह कोई कल्पना नही बल्कि एक सच्चाई है. इराक के किरकुक में , सात लडकिया एक कमरे में बंद थी और उनके कमरे में ISIS लड़ाके लगातार आ जा रहे थे.

इराक के शहर किरकुक में ISIS आतंकी और सुरक्षाबलो के बीच भयानक जंग जारी थी. इस दौरान सुरक्षाबलो ने सभी लोगो को अपने घर में छुपे रहने को कहा. किरकुक में हर तरफ गोलियों की आवाज आ रही थी, बिजली नही थी. किरकुक यूनिवर्सिटी में पढने वाले सात लडकिया एक साथ एक कमरे में रहती थी. किरकुक में लड़ाई शुरू होने के बाद ये सब अपने कमरे में बंद हो गयी. इन्होंने अपने लैपटॉप से अपने मोबाइल फ़ोन चार्ज किये.

इन्ही लड़की में से थी मोनाली अताला. मोनाली और उनकी साथी चेतावनी मिलने के बाद अपने कमरे में मौजूद सिंगल बेड के बिस्तर के नीचे छुप गयी. छुपने से पहने मोनाली अपने घर फ़ोन किया और उनको बताया की मुझे फ़ोन नही करना क्योकि यहाँ ISIS के लडके घूम रहे है. अँधेरा होने की वजह से कमरे में कोई नही दिखाई दे रहा था. इसी बीच दो ISIS के लड़ाके मोनाली के कमरे में घुसते है. इन आतंकियों से बचने के लिए सारी लडकिया मुर्दे की तरह पड़ी रही. इस दौरान आतंकी उनके ऊपर बैठे, उनको मोनाली ने महसूस किया.

मोनाली ने बताया की करीब आठ घंटे तक ISIS के लड़ाके उस कमरे में आते जाते रहे. इस दौरान कुछ घायल आतंकी वहां आये. हमने उनकी सारी बाते सुनी. इस दौरान कुछ आतंकी भगवान् की प्रार्थना भी कर रहे थे. करीब आठ घंटे ऐसे ही , बिना हिले डुले , बिना कोई शोर करे ये लडकिया अपने बिस्तर के नीचे पड़ी रही. इस दौरान उनके और आतंकियों के बीच केवल एक महीन चादर का फासला था.

मोनाली के अनुसार, अँधेरे और गोलियों की आवाज की वजह से ISIS के आतंकी उनको नही ढूंढ सके. आठ घंटे बाद मोनाली अपनी साथियो के साथ वहां से भाग निकली. उनके भागने के कुछ देर बाद ही उस बिल्डिंग में धमाका हो गया. मोनाली का कहना है की हो सकता है , उन लड़को से गलती में अपनी सुसाइड बेल्ट का बटन दब गया होगा.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें