yamen

सिडनी विश्व विद्यालय के प्रोफेसर ने कहा है कि पश्चिम यमन पर सऊदी अरब के अतिक्रमण के मार्ग में बाधा बनने का इरादा नहीं रखता है।

टिम अंडरसन ने प्रेस टीवी के साथ साक्षात्कार में कहा कि सऊदी अरब के हाथों हथियारों की बिक्री से होने वाला मुनाफा इस बात का कारण बना है कि पश्चिम यमन में सऊदी अरब के अपराधों से आंख मूंद ले।

और पढ़े -   तुर्की के विदेश मंत्री ने घाना के एक गरीब देहाती को भेजा हज पर

उन्होंने स्पष्ट किया कि अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस अब भी सऊदी अरब को हथियार बेच रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन तीनों देशों ने यमन की अत्याचारग्रस्त जनता पर सऊदी अरब के अतिक्रमणों को रोकवाने के लिए कोई गम्भीर कार्यवाही नहीं की है।

टिम अंडरसन ने कहा कि इस्राईल की भांति सऊदी अरब को भी अंतरराष्ट्रीय कानूनों से संरक्षण प्राप्त है।

और पढ़े -   क़तर संकट को लेकर सेनेगाल ने मानी गलती, अपने राजदूत को वापस क़तर भेजा

इस विशेषज्ञ ने कहा कि अमेरिका और कुछ पश्चिमी देश हर कुछ समय पर जायोनी शासन द्वारा फ़िलिस्तीन के अतिग्रहित क्षेत्रों में यहूदी कालोनियों के निर्माण की आलोचना करते हैं परंतु व्यवहारिक रूप से वे कुछ नहीं करते हैं और यह ठीक वही चीज़ है जिसके हम रियाज़ के संबंध में भी साक्षी हैं।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE