वाशिंगटन। अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने सऊदी अरब और पाकिस्तान को परमाणु हथियारों के व्यापार में शामिल नहीं होने की चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि सऊदी अरब ऐसी किसी भी योजना के साथ आगे बढता है तो उसे परमाणु अप्रसार संधि के तहत सभी तरह के बुरे परिणाम भुगतने होंगे।

परमाणु हथियारों के व्यापार पर सऊदी,पाक भुगतेंगे गंभीर परिणाम: अमेरिका

केरी ने ऐसे समय पर यह कड़ी चेतावनी दी है जब सऊदी अरब के पाकिस्तान से परमाणु हथियार खरीदने की कोशिश करने संबंधी मीडिया रिपोर्ट सामने आ रही हैं। शीर्ष पाकिस्तानी नेताओं ने ईरान को हालिया सप्ताहों में चेतावनी दी है कि यदि वह सउदी अरब पर हमला करता है तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। इस चेतावनी को कई विश्लेषक इस्लामाबाद की ओर से तेहरान के समक्ष परमाणु खतरे के रूप में देख सकते हैं।

और पढ़े -   फिलिस्तीन का साथ देने पर सऊदी और उसके घटक देश दे रहे क़तर को सज़ा

केरी ने सीएनएन से कहा कि निश्चित ही हमने ऐसी बातें सुनी हैं लेकिन आप (परमाणु) बम खरीद नहीं सकते और न ही उनका हस्तांतरण कर सकते हैं। उन्होंने कड़ी परमाणु अप्रसार संधि का जिक्र करते हुए कहा कि एनपीटी के तहत कई प्रकार के परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। मेरा मतलब है कि इसका व्यापक असर पड़ेगा।

केरी से पूछा गया था कि ईरान के साथ इस परमाणु संधि से जुड़ी चिंताओं के मद्देनजर सऊदी अरब इस संभावना से इंकार नहीं कर रहा है कि वह एक परमाणु बम खरीद सकता है, वह इसे शायद पाकिस्तान से खरीद सकता है, आपने उन चिंताओं के बारे में सुना है। पाकिस्तान पहले ही अपनी परमाणु प्रसार गतिविधियों और ईरान, लीबिया, उत्तर कोरिया जैसे देशों को परमाणु हथियारों की तकनीक लीक करने के कारण अंतरराष्ट्रीय समुदाय की रडार पर है।

और पढ़े -   नेपाल सरकार ने पतंजलि के 7 प्रोडक्‍ट पर लगाया बैन, क्वालिटी टेस्ट में हो गए फ़ैल

केरी ने कहा कि मुझे लगता है कि सऊदी अरब जानता है कि इससे वह अधिक सुरक्षित नहीं बनेगा और न ही यह आसान होगा क्योंकि जैसा ईरान के साथ हुआ है, उसे भी उसी प्रकार की जांच, एनपीटी और अन्य चीजों का सामना करना होगा। साभार: ibnlive


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE