amer

अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप की राष्ट्रपति चुनाव में जीत के बाद मुसलमानों पर नस्लीय हमलों में बेतहाशा बढोतरी हो गई हैं. हाल ही में एक महिला टीचर पर पांच वर्षीय मुस्लिम बच्चें को गला दबाकर मारने की कोशिश का आरोप लगा हैं.

उत्तर कैरोलीना में शारलोट मैकेनबर्ग एलीमेंट्री स्कूल में केजी पड़ने वाले इस छात्र को महिला टीचर इसलिए मारना चाहती थी कि उसका सबंध मुस्लिम समुदाय से हैं. देश के सबसे बड़े मुस्लिम मानवाधिकार समूह कौंसिल ऑन अमेरिकन इस्लामिक रिलेशन (सीएआईआर) ने इस मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की हैं.

और पढ़े -   रिश्तों को सामान्य करने को लेकर सऊदी अरब ने क़तर को सौंपी 10 मांगो की सूची

सीएआईआर की वकील माहा सैयद ने इस बारे में शारलोट-मैकेनबर्ग बोर्ड ऑफ एडुकेशन को लिखा, ‘स्कूली वर्ष के शुरूआती दो महीने में बच्चें को उसकी क्लास के बच्चों के सामने डराया धमकाया गया, महिला टीचर उसकी सहपाठियों से अलग कर भारी वजन उठाने की सज़ा देती थी. उसके स्कूल बैग में भारी किताब और हेडफोन होते जिससे कुछ दिनों बाद (छात्र को) कमर में दर्द होने लगा.

और पढ़े -   सऊदी अरब की मांगो की सूची के जवाब में क़तरियों ने भी की अपनी मांगो की सूची जारी

गौरतलब रहें कि डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनते ही देश के मुस्लिम समुदाय सहित अन्य अल्पसंख्यकों पर नस्लीय हमलें बढ़ गए हैं. जिसके कारण वे काफी डरे सहमे हुए हैं. उन्हें अपनी सुरक्षा की चिंता हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE