सऊदी अरब, संयुक्त अरब इमारात, बहरैन तथा मिस्र की ओर से क़तर के साथ रिश्तें तोड़े जाने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस आतंकवाद के खिआफ एक मजबूत कदम करार देते हुए अपने हालिया सऊदी अरब के दौर को लेकर अपनी पीठ थपथपाई थी.

इसी बीच क़तर और अमेरका के बीच एक अरबों डॉलर की सैन्य डील हुई. जिसके तहत क़तर अमेरिया से 12 अरब डॉलर के एफ-15 लड़ाकू विमान खरीदेगा. इस सौदे के बाद से ही अमेरिका ने क़तर को लेकर अपने तेवर बदल दिए है.

और पढ़े -   डोनाल्ड ट्रंप को किम जोंग का जवाब - धमकी से नहीं डरने वाले, हमले के लिए है तैयार

अमरीकी विदेश मंत्रालय की महिला प्रवक्ता हीथर नाएर्ट ने मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में सऊदी अरब को भारी झटका देते हुए कहा कि क़तर के साथ कूटनैतिक संकट को जैसे जैसे समय बीत रहा है सऊदी अरब और इमारात की ओर से क़तर के विरुद्ध की गई कार्यवाही के बारे में शंका बढ़ती जा रही है.

प्रवक्ता ने कहा कि दो सप्ताह से अधिक समय हो चुका है लेकिन अब तक प्रतिबंध लगाने वाले देशों ने क़तर सरकार और जनमत के सामने अपने दावों के बारे में कोई ब्योरा नहीं पेश किया है.

और पढ़े -   डोकलाम विवाद से उपजे तनाव के लिए चीन ने ठहराया पीएम मोदी को जिम्मेदार: चीन

उन्होंने कहा, इस चरण में हमारे सामने एक साधारण सा सवाल यह है कि क्या वाक़ई यह कार्यवाही क़तर की ओर से आतंकवाद के कथित समर्थन पर चिंता के तहत ही की गई है या फिर इसका कारण इन देशों के बीच पुराने समय से चला आ रहा मतभेद है?


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE