वाशिंगटन। अमेरिका ने ईरान के दो रक्षा अधिकारियों एक कंपनी और चीन आधारित नेटवर्क के सदस्यों पर ईरान स्थित बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को समर्थन के चलते उन पर प्रतिबंध लगा दिया।

अमेरिकी ट्रेजरी ने एक बयान में इस बात की पुष्टि की और बताया कि यह प्रतिबंध उस दिन आया है जब ट्रंप प्रशासन ने कहा था कि ईरान के साथ 2015 के परमाणु समझौते को लागू करने के लिए ईरान पर व्यापक प्रतिबंध को जारी रखेंगे।

और पढ़े -   क़तर और ईरान के बीच मजबूत होते रिश्तें, दोहा भेजेगा तेहरान में अपना राजदूत

बयान में बताया गया कि जिन ईरानी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाया गया है उनके नाम मुर्तजा फरासतपौर और रहीम अहमादी हैं। फरासतपौर ने सीरियाई सरकारी एजेंसी को विस्फोटक और अन्य सामग्री की बिक्री और वितरण का समन्वय किया था।

अहमदी ईरान के शाहिद बेकरी इंडस्ट्रीज ग्रुप का निदेशक है जो ईरान के ठोस-इंधन वाला बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के लिये जिम्मेदार है। वहीँ ईरान ने इसकी आलोचना करते हुए कहा है कि प्रतिबंधों से परमाणु समझौता कमजोर होगा।

और पढ़े -   यमन युद्ध में मरने वाले 50 प्रतिशत बच्चे सऊदी हमलों में मरे: सयुंक्त राष्ट्र

इसके जवाब में  जवाब में गुरुवार को ईरान ने भी अमेरिका के नौ कंपनियों और नागरिकों पर प्रतिबंध लगा दिए। विदेश मंत्रालय ने कहा कि जो व्यक्ति और कंपनियां प्रतिबंधित की गई हैं वे फलस्तीन में आतंकी हमलों और मानवाधिकारों को उल्लंघन में प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष तौर पर शामिल हैं।

ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बहमरा घासेमी ने कहा कि ईरान परमाणु हथियार नहीं चाहता है। उसका मिसाइल कार्यक्रम पूरी तरह से वैध और देश की रक्षा शक्ति बढ़ाने के लिए है। वह अपने मिसाइल कार्यक्रम से पीछे नहीं हटेगा।

और पढ़े -   फिलिस्तीन-इजरायल संघर्ष पर अमेरिका का रुख नहीं समझ पा रहे: फिलिस्तीनी पीएम

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE