obama

अमरीका इजरायली मिलिटरी  को 10 महीने की बातचीत के बाद अगले 10 साल के लिए 38 अरब डॉलर की सैन्य मदद देने के लिए तैयार हो गया है. अमेरिका ने अब तक इससे बड़ी रकम किसी भी देश को मिलिटरी मदद के रूप में नहीं दी है.

इस समय अमरीका इस्राईल को 3.1 अरब डॉलर सालाना सैन्य मदद दे रहा है और अब यह मदद बढ़ कर 3.8 अरब डॉलर हो जाएगी. बुधवार को इस समझौते पर हस्ताक्षर हो गया. अमेरिका और इजरायल ने वास्तविक रकम का खुलासा नहीं किया है लेकिन इस समझौते से जुड़े करीबी अधिकारियों का कहना है कि हर साल अमेरिका इजरायल को 3.8 बिलियन डॉलर देगा.

और पढ़े -   ट्रम्प की सऊदी अरब की यात्रा का मकसद मध्य पूर्व के लिए नाटो की तरह एक संगठन बनाना

अमरीका की ओर से सैन्य मदद का समझौता 2018 में ख़त्म हो रहा है और उसकी जगह पर नया समझौता लागू होगा जो अमरीका के इतिहास में सैन्य मदद का सबसे बड़ा एकपक्षीय वादा है. अमरीका की ओर से सैन्य मदद में इजराइल को मीज़ाईल रक्षा तंत्र भी शामिल है जिसकी क़ीमत 50 करोड़ डॉलर है.

इस समझौते को लेकर दोनों देशों के बीच महीनों से बातचीत चल रही थी. ओबामा प्रशासन चाहता था कि वह अपना कार्यकाल खत्म होने से पहले इस समझौते को अंजाम तक पहुंचा दे. दूसरी तरफ इजरायली पीएम बेंजामिन चाहते थे अगले साल फरवरी में अमेरिका की नई सरकार से इससे बेहतर डील की जाए. ओबाम अपने सिर पर यह बदनामी नहीं लेना चाहते थे कि उनकी सरकार ने इजरायल को मदद नहीं की.

और पढ़े -   किंग सलमान ने ट्रम्प को सऊदी अरब के शीर्ष नागरिक सम्मान से किया सम्मानित

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE