RECEP TAYYİP ERDOĞAN,

तुर्की ने चार अरब देशों से कतर में अपने सैन्य अड्डे को बंद करने की मांग कोयह कहकर खारिज  कर दिया है कि तुर्की सैन्य  बैस खाड़ी देशों की सुरक्षा का गारंटर है और इसके बंद होने की मांग दोहा के साथ अपने संबंधों में हस्तक्षेप का प्रतिनिधित्व करती है.

रक्षा मंत्री फिक्री इसाक ने तुर्की के प्रसारक एनटीवी से कहा कि उन्होंने अभी तक बेस बंद करने के लिए कोई अनुरोध नहीं देखा था, लेकिन स्पष्ट कर दिया था कि उनके देश को कतर के साथ 2014 के समझौते की समीक्षा करने की कोई योजना नहीं थी, जिसके चलते इसे स्थापित किया गया था.

और पढ़े -   यमन युद्ध में मरने वाले 50 प्रतिशत बच्चे सऊदी हमलों में मरे: सयुंक्त राष्ट्र

उनकी ये प्रतिक्रिया सऊदी अरब और अन्य अरब देशों द्वारा “आतंकवाद” के कथित समर्थन पर कतर के बहिष्कार के बाद रिश्तें बहाल करने को लेकर जारी की गई मांगों की एक सूची में शामिल तुर्की सैन्य अड्डे को बंद करने की मांग के बाद आई है.

इस्की ने शुक्रवार को एक साक्षात्कार में कहा, “अगर ऐसी मांग है, तो इसका द्विपक्षीय संबंधों में हस्तक्षेप होगा” उन्होंने कहा, कतर में स्थित तुर्की बेस कतर और क्षेत्र की सुरक्षा को संरक्षित करेगा. यह एक महत्वपूर्ण सैन्य आधार है और किसी भी देश को इसे परेशानी नहीं होना चाहिए.

और पढ़े -   आईएसआईएस के मुक़ाबले हिज़बुल्लाह की निरंतर सफलताओं से इस्राईल में मचा हड़कंप

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE